मेदिनीनगर

  • Hindi News
  • Jharkhand News
  • Medininagar
  • बसें नहीं चली, बैंकों में दिखी कम भीड़ माल नहीं आने से सब्जी फल के दाम बढ़े
--Advertisement--

बसें नहीं चली, बैंकों में दिखी कम भीड़ माल नहीं आने से सब्जी फल के दाम बढ़े

नक्सली बंदी के कारण यात्री और आम लोग दिनभर परेशान रहे। दूर दराज की एक भी गाड़ियां बस स्टैंड से नहीं चली। बस स्टैंड...

Dainik Bhaskar

Aug 04, 2018, 03:40 AM IST
बसें नहीं चली, बैंकों में दिखी कम भीड़ माल नहीं आने से सब्जी फल के दाम बढ़े
नक्सली बंदी के कारण यात्री और आम लोग दिनभर परेशान रहे। दूर दराज की एक भी गाड़ियां बस स्टैंड से नहीं चली। बस स्टैंड में बिल्कुल सन्नाटा पसरा हुआ था। सिर्फ इक्के-दुक्के यात्री ही आकर जानकारी ले रहे थे कि बस चलेगी कि नहीं। बंदी के कारण व्यापारी भी परेशान नजर आएं। जिन व्यापारियों का माल शुक्रवार को आना था, वह बंदी के कारण नहीं आ पाया। बाहर से मंडी में सब्जी व फल नहीं आने के कारण सब्जियों एवं फलों के दाम आसमान छूने लगे। शुक्रवार को फल और सब्जी आम दिनों से 25 प्रतिशत तक महंगा बिका।

ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले लोगों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा। बंदी के कारण प्रतिदिन होने वाले करोड़ों रुपए का व्यापार प्रभावित रहा। बैंकों में भीड़ भी कम ही नजर आ रही थी। कुल मिलाकर कहा जाए, तो नक्सली बंदी के कारण बाहर से आने जाने वाले लोगों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा। वहीं व्यापार करने वाले लोगों को भी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा।

नक्सली बंदी में बस स्टैंड में खड़ी रही बसें।

पांकी में बंदी बेअसर पर बैंकों में लटके रहे ताले

पांकी |
प्रखंड के विभिन्न क्षेत्रों में शुक्रवार की नक्सली बंदी बेअसर साबित हुई। वहीं पांकी का मुख्य साप्ताहिक बाजार सामान्य दिन की भांति खुला रहा व बाजार में लोगों की काफी भीड़ भाड़ भी देखी गई। प्रखंड की सामान्यतः सभी दुकानें खुली व छोटी गाड़ियां चलती दिखाई दी। नक्सली बंदी के कारण बड़ी गाड़ियों का परिचालन ठप रहा। वहीं दूर जाने वाली बसें भी खड़ी रही। इसके परिणामस्वरूप यात्रियों को ऑटो से गुजरते हुए देखा गया, जिससे ऑटो चालकों की चांदी रही। वहीं नक्सली बंदी में पूरे बाजार खुले रहने के बावजूद प्रखंड के सभी बैंकों में ताले लटके रहे, जिसके परिणाम स्वरूप ग्राहक परेशान रहे।

X
बसें नहीं चली, बैंकों में दिखी कम भीड़ माल नहीं आने से सब्जी फल के दाम बढ़े
Click to listen..