--Advertisement--

जामताड़ा में पहली बार राजमा की खेती से खुशी

जिले में पहली बार राजमा की खेती आरंभ किया गया। इसका सकारात्मक रिजल्ट सामने आया है। किसानों की मेहनत रंग लाई है।...

Dainik Bhaskar

Jan 18, 2018, 02:50 AM IST
जिले में पहली बार राजमा की खेती आरंभ किया गया। इसका सकारात्मक रिजल्ट सामने आया है। किसानों की मेहनत रंग लाई है। राजमा का फसल तैयार हो चुका है। फसल का उत्पादन आरंभ हो जाने से किसान सब्जी के रूप में फसल की बिक्री आरंभ कर दिया है।

इससे किसानों को अच्छा मुनाफा हो रहा है। बीटीएम सुनील कुमार भारती ने बताया कि जिले के 300 हेक्टेयर में राजमा का बीज बोया गया था। विभाग द्वारा प्रगतिशील किसानों को नि:शुल्क बीज दिया गया था। जिले के जामताडा़, कुंडहित, नाला, फतेहपुर, नारायणपुर, करमाटांड प्रखंड में 50-50 हेक्टेयर में राजमा की खेती आरंभ किया गया था। किसानों को जागरूक कर राजमा की खेती करवाया गया। जिला कृषि पदाधिकारी ब्रह्मदेव साह के निर्देश पर विभागीय कर्मी किसानों को लगातार जागरूक करते हुए जिले में पहली बार राजमा की खेती आरंभ किया जो वर्तमान में सफल रहा।

बताया गया कि बिराजपुर, डारपूजा, बरदेही, बारादाहा, मोहनपुर, महुलबना सहित दर्जनों गांव के किसानों ने राजमा की खेती किया है। विभाग को उम्मीद है कि आने वाले रबी फसल में किसान जागरूक होकर राजमा की खेती करेंगे।

जिले में फिलहाल 300 हेक्टेयर में लगायी गई है फसल, िकसानों को मिला है नि:शुल्क बीज

राजमा की खेती से दोहरा लाभ

राजमा की खेती करने से किसान को दोहरा लाभ होता है। फसल उत्पादन होने पर उसे सब्जी के रूप में भी बेच सकते हैं या उसे सूखाकर बीज के रूप में भी बेच सकते हैं। सब्जी वर्तमान समय में जिले में 40-50 रुपए प्रति किलो है। जबकि इसका बीज 90-100 रुपए प्रति किलो बाजार में बिक रहा है। इससे किसान को परेशानी कम और फायदा अधिक है।

राजमा 90 दिन का फसल

बीटीएम सुनील कुमार भारती ने बताया कि राजमा रबी फसल है जो 90 दिन में तैयार हो जाता है। इस फसल की मांग जिले के अलावा आसपास के इलाकों में काफी है। मांग को देखते हुए किसान को राजमा की खेती करना उनके लिए फायदेमंद है। राजमा की खेती के लिए अगर किसान किसी प्रकार की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो प्रखंड एवं जिला कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं। विभाग किसानों को हर संभव मदद के लिए तैयार है। राजमा फसल सब्जी और बीज बेचने के लिए मार्केट की कोई कमी नहीं है। यह आसानी से बिकने वाला फसल है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..