• Home
  • Jharkhand News
  • Nala
  • राधा-कृष्ण मिलन प्रसंग सुन श्रद्धालु मंत्रमुग्ध
--Advertisement--

राधा-कृष्ण मिलन प्रसंग सुन श्रद्धालु मंत्रमुग्ध

नाला प्रखंड क्षेत्र के पांजुनिया पंचायत स्थित मधुबन गांव के ग्रामीणों द्वारा चार दिवसीय हरिनाम संकीर्तन का...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:00 AM IST
नाला प्रखंड क्षेत्र के पांजुनिया पंचायत स्थित मधुबन गांव के ग्रामीणों द्वारा चार दिवसीय हरिनाम संकीर्तन का आयोजन किया गया है। जिससे मधुबन सहित आपसाप के गांव में भक्ति का वातावरण है। चार दिनों तक चलने वाले कीर्तन के सफल संचालन करने के लिए आयोजक मंडली काफी सक्रिय है। मौके पर कोलकाता के प्रसिद्ध कीर्तनिया मनोरंजन चक्रवर्ती द्वारा पाला कीर्तन प्रस्तुत किया जा रहा है। जिसमें उपस्थित श्रोता भावविभोर हो उठे। उन्हाेंने प्रथम दिन के अवसर पर राधाकृष्ण मिलन का वर्णन करते हुए कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ब्रज की गलियों में खेल रहे थे। सुंदर भगवान का रूप है। कजरारी मोटी-मोटी आंखे हैं, घुंघरारे बाल हैं, कानों में मकराकृति कुण्डल हैं। सर पर मोर मुकुट है, दांत ऐसे चमक रहे हैं जैसे बिजली चमक रही है और भगवान ने सुंदर पीताम्बर धारण किया हुआ है। भगवान के हाथ में एक लट्टू है तथा चकई है और उन्हें घुमाने की डोरी हाथ में पकड़ी हुई है। उसी समय वहां पर अचानक श्रीराधा रानी जी आ जाती हैं। भगवान श्रीकृष्ण जी श्रीराधा रानी को देखा। बस देखते ही रह गए। राधा जी की बड़े-बड़े मनभावन नेत्र हैं और माथे पर लाल रोली का टिका लगाया हुआ है। नीलवर्ण घाघरा फरिया पहना हुआ है, कमर पर घने बालों वाली वेणी इधर से उधर झकझोरती हुई डोल रही है। श्रीराधा रानी अपनी सखियों के साथ यमुना तट की और चली आ रही है जहां कृष्णजी खेल रहे हैं। राधाजी की उम्र कम है वो, तन की गोरी और अत्यधिक सुंदर और मनमोहिनी रूप- श्रीकृष्ण ने पूछा कि हे गोरी तुम कौन हो कहा रहती हो किसकी बेटी हो हमने पहले कभी ब्रज की इन गलियों में तुम्हें नहीं देखा। तुम हमारे इस ब्रज में क्यों चली आई। श्रीराधा जी अपनी मीठी वाणी से मुस्कुराते और व्यंग्यपूर्ण स्वर में कहती हैं हम भला ब्रज की इन तंग गलियों में क्यों आएंगी हम तो अपने ही घर के आंगन में खेलती रहतीं। फिर राधा जी कहती हैं मैंने सुना है की नंदजी का लड़का माखन-दही की चोरी करता फिरता है। कृष्ण जी ने सोचा ये तो पहली ही बार मिली हैं और इसने तो हमारे साथ हंसी मजाक शुरू कर दिया तब कृष्ण बोले, लेकिन तुम्हारा हम क्या चुरा लेंगे अब ये चोरी की बहस छोड़ और चलो साथ मिलकर जोड़ी बनाकर खेलने चलते हैं। रसिक कृष्ण ने बातों ही बातों में भोली-भाली राधा को बहला ही दिया। इस क्रम में राधाकृष्ण मिलन प्रथम मिलन हुआ। इस अवसर पर पलन, नवडीहा, कुलडंगाल, भेडो, बेनागडिया, भागा घुटबोना, पॉजुनिया, घोलजोड़, संगाजुड़ा आदि ने श्रवण किया।

प्रसाद वितरण के साथ कीर्तन का समापन

नाला | रविवार को प्रखंड क्षेत्र के दलाबड़ पंचायत स्थित धवाटांड़ गांव में कुंज विलास के साथ 24 पहर अखंड हरिनाम संकीर्तन का संपन्न हुआ। धवाटांड़ गांव में 16 आना ग्रामीणों के द्वारा 24 पहर अखंड हरिनाम संकीर्तन का आयोजन किया गया था। जिससे धवाटांड़ गांव सहित सियारकेटिया, आसनजोड़ी, डाड़र, दलाबड़, चालेपाड़ा आदि गांवों में भक्तिमय वातावरण बना हुआ था। मौके पर पश्चिम बंगाल जामुड़िया के प्रसिद्ध कीर्तन कलाकार संदीप अधिकारी द्वारा चार दिनों तक पाला कीर्तन का प्रस्तुत किया। जिससे पूरे क्षेत्र में उत्साह एवं भक्ति का माहौल बना हुआ था। कुंज विलास के मौके पर कीर्तन कलाकार ने भजन कीर्तन प्रस्तुत किया गया। जिससे पूरे परिसर में उपस्थित सभी श्रोता भक्ति से झुम उठे। तत्पश्चात आयोजक मंडली द्वारा उपस्थित सभी श्रोताओं के बीच खिचड़ी प्रसाद का वितरण किया गया। जिसमें काफी संख्या में श्रोता उपस्थित होकर खिचड़ी प्रसाद ग्रहण किया। इस चार दिवसीय अखंड हरिनाम संकीर्तन को सफल संचालन में कमेटी लोग काफी सक्रिय रहे।

कलश यात्रा के साथ भागवत कथा आरंभ

कुंडहित|महावीर जयंती के अवसर पर अम्बा गांव में कलश यात्रा निकाली गई। स्थानीय लायक तालाब से 108 कन्याओं ने कलश में जलभर कर हाटतला दुर्गामंदिर पहुंच कर कलश स्थापित किया। अंबिका पूजा समिति द्वारा सात दिवसीय भागवत कथा आयोजित किया गया। कथा 7 अप्रैल तक जारी रहेगा। पश्चिम बंगाल के बद्धर्मान जिला निवासी सुशीन चक्रवर्ती द्वारा भागवत पाठ किया गया। मौके पर काफी संख्या में श्रोताभक्त पहुंचे।

दलाबड़ में 24 पहर संकीर्तन का शुभारंभ

भास्कर न्यूज|नाला

दलाबड़ गांव में रविवार को शुभ गंधाधिवास के साथ 24 पहर कीर्तन शुरु हुअा। कीर्तन शुरू होने से प्रखंड मुख्यालय में भक्ति एवं उत्साह का माहौल बना हुआ है। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी 16 आना ग्रामीणों द्वारा चार दिवसीय अखंड हरिनाम संकीर्तन का आयोजन किया गया है। जिसका विधि विधानपूर्वक शुभ गंधाधिवास गौरांग महाप्रभु का स्वरण करते हुए कीर्तन को सुचारू रूप से संपन्न कराने के लिए कामना किया। मौके पर आचार्य एवं वैष्णव संप्रदाय के सहयोग से श्रीश्री गोपाल जी एवं राधा गोविंद जी को स्थापना, आरती कीर्तन के पश्चात 24 पहर अखंड हरिनाम संकीर्तन का शुभारंभ किया गया। चार दिवसीय कीर्तन में दलावड़, नाला, गोपालपुर के ग्रामीण पहुंच रहे हैं।

श्रीमद भागवत कथा के लिए कलश यात्रा आज

भास्कर न्यूज|नाला/बिन्दापाथर

सात दिवसीय श्रीमद भागवत के आयोजन काे लेकर तैयारी पूरी कर ली गई है। भव्य कलश यात्रा साेमवार काे निकाली जाएगी। कलश यात्रा में क्षेत्र की 108 कन्या के अलावे महिला-पुरुष श्रद्धालु शामिल होंगी। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी नाला विधानसभा के बिन्दापाथर थाना क्षेत्र स्थित बड़वा गांव के राधा गिरिधारी मंदिर परिसर में सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा आयोजित किया जाएगा। इस संबंध में जानकारी देते हुए आयोजक मंडली के तारिणी दास बाबाजी ने बताया कि श्रीमद भागवत कथा का शुभारंभ हो रहा है जिसकी आवश्यक तैयारी पूरी कर ली गई है। उन्होेंने बताया कि क्षेत्र स्थित शिलानदी के मधुवाचॉक-नामुजलांई घाट से वृन्दावन धाम के आचार्य गिरीधारी शास्त्री महाराज के सानिध्य पर भव्य कलश यात्रा का आयोजित किया जाएगा। कलश यात्रा में शामिल होनेवाली कन्याओं के लिए कलश, ध्वजा, बैनर आदि आवश्यक वस्तुओं की तैयारी कर ली गई है। जिसे लेकर वड़वा, मंझलाडीह, चड़कमारा, मोहनवॉक, तिलाकी, वावुडीह, लाकड़ाकुन्दा, जलांई, नामुजलांई, पिपला, पाटनपुर, बाघमारा, डाढ़, मोहजुड़ी, हदलवॉक, सुन्दरपुर सहित पूरे क्षेत्रों में भक्ति और उत्साह का माहौल बनने लगा है। उन्होंने बताया कि वृन्दावन के आचार्य गिरीधारी शास्त्री महाराज एवं उनके सहयोगियों द्वारा सात दिन तक श्रीमद भागवत कथा सह प्रवचन किया जाएगा। जिसके लिए राधा गिरिधारी मंदिर परिसर में भव्य पंडाल का निर्माण कार्य पू्र्ण कर लिया गया है।

आयोजन के दौरान प्रस्तुति देते कलाकार।

काली मंदिर में कीर्तन का आयोजन

कुंडहित|गढ़शिमला काली मंदिर में कीर्तन का आयोजन किया गया। तापस भट्‌टाचार्य द्वारा प्रस्तुत कीर्तन सुनने आस पास के ग्रामीण मौजूद थे। इस माैके पर चबुतरा का निर्माण कार्य आरंभ किया गया। पुजारी सेंटू चक्रवर्ती ने मंदिर में पूजा अर्चना किया। इसके उपरांत श्रद्धालुओं के बीच प्रसाद का वितरण किया गया।