Hindi News »Jharkhand »Nala» दूसरे स्कूलों में मर्ज होने वाले विद्यालयों का शिक्षा प्रतिनिधि ने किया निरीक्षण

दूसरे स्कूलों में मर्ज होने वाले विद्यालयों का शिक्षा प्रतिनिधि ने किया निरीक्षण

शिक्षा विभाग के निर्देश पर कम नामांकित वाले विद्यालयों को निकटस्थ विद्यालयों में विलय करने की प्रक्रिया शुरू है।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 21, 2018, 03:10 AM IST

शिक्षा विभाग के निर्देश पर कम नामांकित वाले विद्यालयों को निकटस्थ विद्यालयों में विलय करने की प्रक्रिया शुरू है। इस निर्देश के अनुसार प्रथम चरण में 20 से कम बच्चे वाले कपासडंगाल, दामोदरगंज, केशिया समेत 16 विद्यालय का विलय किया गया है जबकि अब 60 छात्र-छात्रा से कम नामांकित वाले वैसे विद्यालयों का निकटस्थ विद्यालय में विलय करने के लिए नाला प्रखंड में सूचीबद्ध 98 विद्यालय का भौतिक सत्यापन का कार्य जारी है। इस संदर्भ में मंगलवार को झारखंड शिक्षा परियोजना, रांची के शिक्षा प्रतिनिधि क्रांति कुमार चांद ने तिलाबनी, बारघरिया एवं निश्चिंतपुर संकुल संसाधन केंद्र के मुर्गाडंगाल, हरिपुर, देवलकुंडा, महेशमुंडा, बाबुपुर, सुका समेत दर्जनाधिक विद्यालय का सर्वे कर बच्चों का नामांकन, उपस्थिति एवं दूरी का जायजा लिया। कम नामांकन वाले एवं विलय किए जाने वाले विद्यालय की दूरी तथा आवागमन की भौगोलिक स्थिति के बारे में जानकारी ली जा रही है। सर्वे कर वास्तविक स्थिति का आंकड़ा संग्रह किया जा रहा है।

पुराने स्कूलों के विलय का विरोध शुरू

नाला|सरकारी निर्देश के अनुसार कम नामांकित वाले स्कूल को अन्य स्कूल में मर्ज करने का समाज की ओर से विरोध शुरू हो गया है। इस संबंध में मंगलवार को प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी एग्नेश सोरेन से कई समाज सेवियों ने इस मुद्दे पर चर्चा किया। समर माजि, आशीष तिवारी एवं मो गुलशन अली ने बताया कि कपासडंगाल स्थित विद्यालय के पोषक क्षेत्र में चार-चार टोला है तथा इसके बावजूद वहां कम विद्यार्थी दिखाना दुर्भाग्यपूर्ण है। क्षेत्र के अल्पसंख्यक आबादी बहुल बामनडीहा स्कूल का अस्तित्व विलय के साथ मिटा देना सर्वथा अनुचित है। इस विषय व मांग पर बीडीओ ने सरकारी निर्देश के साथ उन्हें समझाने का भले ही कोशिश किया लेकिन सरकार के इस निर्देश को थोंपने से बच्चों की पढ़ाई बाधित होने की बात समाज सेवियों के द्वारा कही गई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×