नाला

--Advertisement--

उपेक्षा के कारण जर्जर हुआ उच्च स्तरीय पुल

झारखंड और बंगाल को जोड़नेवाला महेशमुंडा-रुनाकुड़ा उच्च स्तरीय पुल इन दिनों सरकार और प्रशासन के घोर उपेक्षा का...

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2018, 03:15 AM IST

झारखंड और बंगाल को जोड़नेवाला महेशमुंडा-रुनाकुड़ा उच्च स्तरीय पुल इन दिनों सरकार और प्रशासन के घोर उपेक्षा का शिकार है। झारखंड राज्य बनने के साथ ही क्षेत्रवासियों के बहु प्रतीक्षित मांग पूरा तो हुआ। लेकिन 17 साल के बाद अब इस पुल के चार स्थल में हुए दरार के प्रति सरकार की सौतेली नीति उजागर होने लगी है। तत्कालीन मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी के कार्यकाल में यह पुल बना है। इस संबंध में जेवीएम नेता कार्यकर्ताओं का मानना है कि मौजूदा राज्य सरकार इस पुल की सुरक्षा, भारी वाहन का परिचालन और रख-रखाव के मामले में उपेक्षापूर्ण रवैया अपना रही है। दुमका-आसनसोल और रांची आदि आवाजाही के लिए मुख्य सड़क के अजय नदी में बना हुआ उच्च स्तरीय पुल वरदान साबित हो रहा है। नाला विधानसभा क्षेत्र के लोगों को चिंता सताने लगी है कि इस पुल के एक बार क्षतिग्रस्त हो जाने पर अब देखने वाले कोई नहीं होंगे। इस संबंध में समाज सेवी समर माजि, तापस भट्टाचार्य, गुपीन सोरेन, अशोक कुमार माजि, गुलशन अली आदि ने जिला प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराते हुए क्षतिग्रस्त स्थल का अविलंब मरम्मत कराने की मांग किया है।
X
Click to listen..