Hindi News »Jharkhand »Nala» राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का जिला स्तरीय कार्यक्रम कल से

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का जिला स्तरीय कार्यक्रम कल से

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का जिला स्तरीय उद्घाटन उपायुक्त रमेश कुमार दूबे गुरुवार को करेंगे। कार्यक्रम का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 07, 2018, 03:20 AM IST

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का जिला स्तरीय उद्घाटन उपायुक्त रमेश कुमार दूबे गुरुवार को करेंगे। कार्यक्रम का उद्घाटन समारोह डीएन एकेडमी में किया जाएगा। उक्त जानकारी सिविल सर्जन डॉ. बीके साहा ने देते हुए बताया कि करीब 2 लाख बच्चों को कृमि नाशक दवा खिलाने का लक्ष्य है। उन्होंने बताया कि उद्धाटन समाहरोह के बाद 8 फरवरी को जिला में अभियान के तहत 1 से 19 वर्ष के बच्चों को कृमि नाशक दवा दी जाएगी। जिला में 8 फरवरी को अभियान के तहत बच्चों को कृमि नाशक दवा खिलाना है। बताया गया कि कृमि से बचने के लिए शुद्ध पानी का उपयोग पीने के लिए करना चाहिए, गर्म भोजन का सेवन करें, खाने से पहने और बाद हाथ को अच्छी तरह से धोंए। शौच के बाद अपने हाथों की अच्छे से सफाई करना चाहिए। कहा गया कि कृमि के शिकार सबसे अधिक बच्चे होते है जिसकी उम्र 1 से 19 वर्ष होती है। इसलिए अभियान के तहत बच्चों व किशोरों को कृमि नाशक गोली का सेवन कराया जाएगा। अभियान के तहत जिले के सभी स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्रों में कार्यक्रम आयोजित कर बच्चों को दवा का सेवन कराना। कृमि के कारण कुपोषण, खून की कमी आ जाती है और पीड़ित व्यक्ति एनीमिया के शिकार हो जाते है। कृमि संक्रमण के कारण खास कर बच्चें कुपोषित हो जाते है, जिस कारण उनकी मानसिक और शारीरिक विकास अवरूद्ध होने की संभावना बनी रहती है। इसलिए कृमि संक्रमण को खत्म करने के लिए कृमिनाशक दवा बच्चों को खिलाया जाता है। ताकि छात्रों का मानसिक विकास प्रभावित नहीं हो सके। जिला के सभी विद्यालयों, आंगनबाड़ी केंद्रों में नामांकित छात्रों को कृमि की दवा दी जाएगी। सरकार के निर्देश पर सरकारी शैक्षणिक संस्थानों के साथ हीं प्राईवेट स्कूलों में भी 8 फरवरी से अभियान चलाया जाएगा तथा बच्चों को कृमि नाशक दवा दी जाएगी। कृमि संक्रमण से कुपोषण और खून की कमी होती है। जिसके कारण हमेशा थकावट महसुस होता है। डॉक्टर की सलाह पर सभी को कृमि नाशक दवा अवश्य खानी चाहिए।

1 से 19 वर्ष के बच्चों को दी जाएगी दवा

जिले के 1156 सरकारी स्कूलों और 1189 आंगनबाड़ी केंद्रों के अलावा निजी स्कूलों में भी खिलाई जाएगी। जिले में 2 लाख 22 हजार से अधिक बच्चों को कृमि नाशक दवा खिलाने का लक्ष्य है। जिसमें 1-5 वर्ष तक के बच्चों को आंगनबाड़ी केंद्र तथा 6-19 वर्ष के बच्चों को स्कूलों में दवा खिलाया जाएगा। 2 वर्ष तक के बच्चों को अाधी गोली चूरकर खिलाना है। जबकि 02-19 वर्ष के बच्चों को एक गोली चबाकर खाना है।

1204 स्कूलों के लिए तैयार की गई टीमें

जामताड़ा|राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के सफल आयोजन को लेकर सिविल सर्जन डॉ वीके साहा ने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्त दिवस का आयोजन 8 फरवरी को सभी स्कूल एवं आगंनबाड़ी केंद्रों में आयोजित की जाएगी। कुल 1204 स्कूलों में एडीडी की दवा वितरण एवं 1 लाख 28 हजार बच्चों का दवा खिलाई जाएगी तथा 1 से 5 वर्ष तक के बच्चों को आगनबाड़ी केंद्रों में दवा खिलाई जाएगी। वैसे बच्चे जो किसी कारण से स्कूल में दवा नहीं खिला पाते है तो उनको आगनबाड़ी केंद्रों में दवा दी जाएगी। इसके लिए जिला स्तरीय मोनिट्रींग टीम का गठन किया गया है। जिला स्तर पर कंट्रोल टीम का गठन जिला प्रबंधक के नेतृत्व में गठित किया गया है। मॉनेट्रिग टीम में जामताड़ा डॉ अभिषेक कुमार, नाला डॉ अजीत दूबे, डॉ सुरेंद्र कुमार मिश्रा, कुंडहित पंकज कुमार, दीपक कुमार गुप्ता, नारायणपुर डॉ दिनेश अखौरी, गौरव कुमार शामिल है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×