--Advertisement--

बच्चों को दी रोटा वायरस की दवा

सदर अस्पताल में रोटा वायरस वैक्सीन कार्यक्रम का उद्घाटन करते डीसी। सिटी रिपोर्टर|जामताड़ा विश्व स्वास्थ्य...

Danik Bhaskar | Apr 08, 2018, 03:10 AM IST
सदर अस्पताल में रोटा वायरस वैक्सीन कार्यक्रम का उद्घाटन करते डीसी।

सिटी रिपोर्टर|जामताड़ा

विश्व स्वास्थ्य दिवस के मौके पर सदर अस्पताल जामताड़ा में शनिवार को रोटा वायरस वैक्सीन का समावेशन नियमित प्रतिरक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद ने किया। कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए डीसी ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में जागरूकता के अभाव के कारण लोग जाने अनजाने में दूषित जल का उपयोग कर लेते हैं। जिस कारण डायरिया आम बीमारी का कारण बनकर उभरती है। इसके रोकथाम के लिए सरकार के स्तर से आेआरएस सहित अन्य दवा का वितरण किया जाता है। कहा कि शून्य से पांच आयु वर्ग के ढाई हजार बच्चों की मृत्यु राेटा वायरस के कारण होती है। उन्होंने स्वास्थ्यकर्मियों को बेहतर सेवा देने को कहा। जानकारी और इलाज के अभाव में किसी की मौत न हो, इसका प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए हर किसी को मिलकर अपना काम ईमानदारीपूर्वक करना होगा। डीसी ने बच्चे को रोटावायरस ड्रॉप पिला कर और उपहार देकर कार्यक्रम की शुरुआत की। कहा कि झारखंड में कुपोषण भी बड़ी समस्या है। इसे समाप्त करने के लिए लगातार प्रयास किये जा रहे रहे हैं। निमोनिया और कुपोषण के बाद डायरिया ही बच्चों में मौत का सबसे बड़ा कारण है। नवजात से लेकर पांच साल तक के बच्चों को रोटावायरस ड्रॉप देकर डायरिया से बचाया जा सकता है। बरसात के समय डायरिया का सबसे ज्यादा प्रकोप रहता है। इसके प्रति लोगों को जागरूक करना भी एक महत्वपूर्ण काम है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में पिछड़े हुए झारखंड में सुधार के लिए युद्धस्तर पर काम किया जा रहा है। मौके पर सिविल सर्जन डॉ वीके साहा ने कहा कि जिला को शिक्षित, स्वस्थ्य और सुखी बनाना है। इसके लिए सरकार काम कर रही है। शिक्षित होने पर ही स्वस्थ झारखंड होगा और स्वस्थ्य झारखंड से ही सुखी झारखंड बनेगा। उन्होंने कहा कि मानव संसाधन सबसे बड़ी पूंजी है। किसी की जिंदगी बचाने से जो सुकून मिलेगा, उसका कोई मोल नहीं लगाया जा सकता। उन्होंने कहा कि झारखंड देश के चुनिंदा राज्यों में शामिल हो गया है, जहां रोटावायरस को नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल किया गया है। इससे राज्य में हर साल डायरिया से होनेवाले 2500 बच्चों की अकाल मृत्यु को रोका जा सकता है। उन्होंने सहिया और ग्राम सभा समिति की सदस्या डायरिया से पीड़ित बच्चों की देखभाल करने को कहा। इससे शिशु मृत्युदर को कम किया जा सकेगा। टीकाकरण कार्यक्रम को जन आंदोलन के रूप में बदलना होगा, तभी सफलता मिलेगी। केवल सरकार के बल पर यह संभव नहीं हो पायेगा। इस अवसर पर उपायुक्त के अलावे सिविल सर्जन डॉ. वीके साहा, डाॅ. डीके अखाैरी, डाॅ. पीके शर्मा, डॉ. डीसी मुंशी, डॉ एसके मिश्रा, डॉ. अभिषेक कुमार, डॉ एसके किस्कू, डीपीएम दीपक गुप्ता, डैम भोल शंकर, डीपीसी पंकज कुमार, मीना कुमारी, झूमा गण, मोनाली राय, अजय चांद, पंकज मंडल, पंकज तिवारी, राहुल, रामचंद्र पोद्दार, जीवलाल उपस्थित थे।

बच्चे को दवा देकर किया कार्यक्रम का उद्घाटन

नाला|सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नाला में शनिवार को पंचायत समिति सदस्य जीतेन्द्रनाथ राउत ने फीता काटकर रोटा वायरस वैक्सीन कार्यक्रम का उद्धाटन किया। इस मौके पर अस्पताल परिसर में पहुंचे नौनिहालों को आॅरल वैक्सीन पिलायी गई। इस वैक्सीन के बारे में चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ नदीयानंद मंडल ने बताया कि नवजात को जन्म के बाद पहला खुराक 6 सप्ताह में दूसरा 10 सप्ताह में एवं तीसरा खुराक 14 सप्ताह के अंदर वैक्सीन खुराक पिलाना है। उन्होंने कहा कि शून्य से दो साल के बच्चे अक्सर डायरिया रोग से ग्रसित होते है। इस वैक्सीन से डायरिया के संवाहक रोटा वायरस से दूर रखा जा सकता है। बताया गया कि आज से ही यह वैक्सीन देने का कार्यक्रम शुरु हुआ। एएनएम एवं आंगनबाड़ी के सेविका सहायिका के सहयोग से बच्चों को आॅरल वैक्सीन दिया जाएगा। इस कार्यक्रम का अनुश्रवण के लिए चिकित्सा पदाधिकारी एवं पर्यवेक्षक क्षेत्र भ्रमण करेंगे। मौके पर जिप सदस्य प्रभात टुडू, डाॅ पंकज कुमार शर्मा, बीपीएम जे पप्पू के अलावा जवाहरलाल झा, मीरा यादव, शिवकुमार सिंह, श्रवण कुमार, सईद आलम, गौतम कुमार, भीम हाजरा, सूरज बर्मा, रेणु कुमारी आदि स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे।

सदर अस्पताल में आयोजित कार्यक्रम में शामिल महिलाएं।

ग्रामीण क्षेत्रों में भी पिलायी गई खुराक

भास्कर न्यूज|कुंडहित/ नारायणपुर

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुंडहित के अन्तर्गत सभी आंगनबाड़ी केंद्र में नियमित टीकाकरण सत्र आयोजित किया गया। विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर रोटावायरस ओरल वैक्सीन की शुरूआत की गई। बाल विकास परियोजना पदाधिकारी कुडहित, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी कुंडहित, प्रखंड कार्यक्रम प्रबंधक कुंडहित द्वारा रोटावाइरस वैक्सीन का निरीक्षण आंगनबाड़ी केंद्र गडजोडी में किया गया। दो बच्चों को रोटा वायरस ओरल वैक्सीन एएनएम रेखा द्वारा दिया गया। माैके पर सहिया साथी, सहिया, सेविका उपस्थित थी। टीम ने पुनः आमलादेही आंगनबाड़ी केंद्र में बीपीएम कुंडहित, एमपीडब्ल्यू द्वारा निरिक्षण किया गया यहां पर चार बच्चों को रोटावाइरस का ओरल वैक्सीन एएनएम नमिता द्वारा दिया गया।

1 साल से कम उम्र के बच्चों को दी जानेवाली रोटावायरस खुराक का नारायणपुर में भी विधिवत उद्घाटन कर आरंभ किया गया। इस अवसर पर मुख्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इस खुराक के आरंभ होने का उद्घाटन स्थानीय मुखिया बालेश्वर हेंब्रम, प्रखंड चिकित्सा प्रभारी डॉ अरविंद कुमार दास एवं डॉ आरके बाबू, उप मुखिया रविना बीबी आदि द्वारा संयुक्त रुप से किया गया, उद्घाटन के साथ ही 1 साल से कम उम्र के बच्चों को रोटावायरस वैक्सीन देने का कार्य आरंभ कर दिया गया। इस अवसर पर वह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कई बच्चों को इस वायरस का ड्राप दिया गया। इस अवसर पर चिकित्सा प्रभारी डॉ अरविंद कुमार दास ने बताया कि रोटावायरस ड्रॉप बच्चों को कोल्ड डायरिया से बचाव करेगा, एक साल में तीन ड्राप दिया जाएगा। मौके पर उक्त लोगों के अलावा डॉ शंकर प्रसाद मंडल, डॉ अनूप कुमार, डॉ अर्चना शाहा, मुकेश कुमार, मीरा सिन्हा आदि उपस्थित थे।

नाला में नवजात को खुराक पिलाते मुख्य अतिथि।

कुंडहित में नवजात को रोटा वायरस की खुराक पिलाती स्वास्थ्यकर्मी।

स्वास्थ्य केंद्र में बच्चे को रोटा वायरस की खुराक पिलाती स्वास्थ्यकर्मी।