Hindi News »Jharkhand »Nala» शहरी क्षेत्र में लंगूरों की बढ़ने लगी है चहलकदमी

शहरी क्षेत्र में लंगूरों की बढ़ने लगी है चहलकदमी

लोकसमाज में लंगूर सिर्फ वन्य प्राणी ही नहीं बल्कि पारिवारिक सदस्य बनने लगा है। शास्त्र में बजरंगबली, हनुमान जी को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 09, 2018, 03:20 AM IST

लोकसमाज में लंगूर सिर्फ वन्य प्राणी ही नहीं बल्कि पारिवारिक सदस्य बनने लगा है। शास्त्र में बजरंगबली, हनुमान जी को देवता मानकर आदर किया जाता है। वर्षों पुरानी इस परंपरा और आस्था के नियम को समाज ने अब भी बरकरार रखा है।

शायद यही कारण है कि क्षेत्र में इस प्राणी के पहुंचने से लोग श्रद्धा के साथ उसे खिलाते हैं। कोई वन्य प्राणी के रूप में देखता है तो कोई भगवान रामचंद्र का दूत मानकर उस प्राणी की भक्तिभाव से सेवा करते हैं। गौरतलब है कि क्षेत्र में कहीं भी इस प्राणी का देहावसान होने से उसी स्थल में बजरंगबली मंदिर बनाया जाता है। सिर्फ मंदिर ही नहीं बल्कि रूद्र अवतार के रूप में नित्य पूजा भी की जाती है। इन दिनों नाला बाजार में ऐसे ही एक लंगूर पहुंचने से श्रद्धा और उत्साह का विषय बना हुआ है। उसकी अलग अलग अदा से हर कोई आसानी से आकर्षित होता है। वह सिर्फ घर-घर में जाकर दस्तक नहीं देता है, बल्कि जलपान की दुकान में भी ग्राहक बनकर प्रवेश कर जाता है। दुकानदार और वहां आने जाने वाले हर कोई खाने के लिए कुछ न कुछ देते हैं, जिससे लोगों के साथ गहरा रिश्ता बनने लगा है। सरकार और वन विभाग के द्वारा इस प्राणी की रक्षा एवं ठहराव के लिए कोई व्यवस्था नहीं किया गया है लेकिन समाज के लोग उसे आसानी से स्थान देते हैं। वहीं शहर में लंगूर की चहलकदमी बढ़ने स कई लोग परेशान भी हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×