• Home
  • Jharkhand News
  • Nala
  • बाबा धर्मराज मंदिर में गाजोत्सव की धूम
--Advertisement--

बाबा धर्मराज मंदिर में गाजोत्सव की धूम

भास्कर न्यूज | नाला/बिन्दापाथर परंपरा एवं आस्था के अनुरूप बिन्दापाथर थाना क्षेत्र के जलाई गांव स्थित बाबा...

Danik Bhaskar | Apr 29, 2018, 03:25 AM IST
भास्कर न्यूज | नाला/बिन्दापाथर

परंपरा एवं आस्था के अनुरूप बिन्दापाथर थाना क्षेत्र के जलाई गांव स्थित बाबा धर्मराज मंदिर में शनिवार से तीन दिवसीय गाजोत्सव सह मेला धार्मिक अनुष्ठान के साथ प्रारंभ हो गया। यह मेला बुद्ध पूर्णिमा के शुभ अवसर पर आयोजित किया जाता है। तीन दिवसीय गाजोत्सव सह मेला के आयोजन को लेकर भक्तों में भक्ति और उत्साह देखा गया। आयोजित धार्मिक अनुष्ठान को लेकर आसपास क्षेत्र में ’’गाजनेर धर्मराज हे, तुमी छाड़ा केउ नाय हे आसनशोलेर धर्मराज है, जलांईएर धर्मराज हे” आदि धार्मिक स्लोगन के गूंजने से सभी भक्त एवं आमजनों में भक्ति का संचार होने लगा है।

इस धार्मिक उत्सव को लेकर जलांई सहित मंझलाडीह, नामुजलांई, आम्बाबॉक, लाकड़ाकुन्दा, डुमरिया, चड़कमारा, बड़वा, मोहनवांक, बाबूडीह, पिपला, बाघमारा, डाढ़ सहित पूरे क्षेत्रों में भक्ति एवं उत्साह का वातावरण बना हुआ है। हर साल की तरह इस बार भी विभिन्न क्षेत्र से भक्ता एवं श्रद्धालु बाबा धर्मराज के दरबार में पहुंचे।

प्रथा के अनुसार शनिवार को मंझलाडीह गांव स्थित मुख्य यजमान सिंह परिवार के निकटस्थ जलाशय एकपहाड़ तलाब में दर्जनों भक्ताओं ने पवित्र स्नान किया एवं मुख्य पुजारी रवीन्द्रनाथ झा द्वारा तालाब पर वैदिक रीति रिवाज एवं वैदिक मंत्रोचारण के साथ सभी भक्ताओं को रक्षासूत्र पहनाया गया। रक्षासूत्र धारण करने के साथ ही बाबा धर्मराज धाम में धार्मिक गतिविधि शुरू हो गया।

नियम के अनुसार सभी फलाहार में रहकर धर्मराज बाबा की उपासना में लीन रहते हैं। पारंपरा के अनुसार भक्ताओं द्वारा कतारबद्ध होकर मुख्य पुजारी को अपने अपने कंधों पर चढ़ाकर बाब धर्मराज मंदिर तक ले जाया गया। जो लगभग आधा किलोमीटर है। त्पश्चात रात्रि में गाजोत्सव का विशेष पूजा का प्रारंभ हुआ। रविवार सुबह पट खुलते ही गाजोनत्सव का मुख्य पूजा पाठ का प्ररंभ किया जाएगा। जिसमें पूरे दिन पूजा पाठ करने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ती है। मुख्य पुजारी रवींद्र झा ने कहा कि बाबा के दरबार में जो भी भक्त आते है वे खाली हाथ नहीं लौटते हैं। बाबा धर्मराज के आशीष से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। कहा कि बहुत ऐसे श्रद्धालु पहुंचते है जो विभिन्न प्रकार से बीमार होते हैं।

जलाई गांव स्थित बाबा धर्मराज मंदिर में शनिवार से तीन दिवसीय गाजोत्सव का आयोजन

जय जय कार लगाते भक्ता