--Advertisement--

झारखंड और बिहार में 3500 शेल कंपनियां, 1000 करोड़ रुपए का हवाला कारोबार किया

संतोषजनक जवाब नही मिलने पर इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Danik Bhaskar | Mar 09, 2018, 08:15 AM IST
प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त ने कि प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त ने कि

रांची. झारखंड और बिहार के प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त कैलाश चंद्र घुमरिया ने कहा कि आयकर विभाग ने दोनों राज्यों में 3500 शेल कंपनियों की पहचान की है। ये कंपनियां सिर्फ कालेधन को सफेद बनाने का जरिया है। इन कंपनियों का पेड कैपिटल 10 लाख रुपए से 50 करोड़ रुपए तक की है। हवाला के माध्यम से इन कंपनियों ने 1000 करोड़ रुपए से अधिक इधर से उधर किए हैं। ये पैसे शेयर प्रीमियम के रूप में लोगों को मिले हैं। घुमरिया गुरुवार को आयकर भवन में मीडिया से बात कर रहे थे।

जवाब नही मिलने पर इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी

उन्होंने कहा कि इन कंपनियों की सूची अफसरों को दे दी गई है। कंपनियों के डायरेक्टरों को नोटिस सर्व करा दिया है। कुछ लोगों ने जवाब दिया है, जिसका अध्ययन किया जा रहा है। अधिकतर ने अभी जवाब नहीं दिया है। संतोषजनक जवाब नही मिलने पर इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कालेधन वाले को सरकार छोड़ने वाली नहीं है। उन्होंने कहा कि 15 मार्च से पहले एडवांस टैक्स जमा करना है, जबकि रिटर्न फाइल करने की अंतिम तिथि 31 मार्च है।

आयकर वसूली का लक्ष्य 13,200 करोड़, अब तक वसूली 8100 करोड़

घुमरिया ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में झारखंड-बिहार में आयकर वसूली का लक्ष्य 13,200 करोड़ है। इनमें से अब तक 8100 करोड़ की वसूली हो चुकी है। झारखंड का लक्ष्य 2750 करोड़ रुपए है, जिनमें से 1154 करोड़ की वसूली हुई है। टीडीएस वसूली का लक्ष्य 8500 करोड़ है। इनमें से 5443 करोड़ की वसूली हो चुकी है। नए करदाता बनाने का लक्ष्य 5 लाख 2 हजार है, जिसमें से 3 लाख 76 हजार 500 नए करदाता बनाए गए हैं। चालू वित्तीय वर्ष में व्यक्तिगत लोगों से अधिक टैक्स मिला है। इसमें करीब 66 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। अभी तक व्यक्तिगत स्तर से 300 करोड़ रुपए टैक्स मिले हैं। पिछले साल इस समय तक 184 करोड़ मिले थे। कॉरपोरेट से अभी तक 815 करोड़ मिले हैं। पिछले साल 1,000 करोड़ मिले थे। इस बार सीसीएल ने अभी तक एडवांस टैक्स नहीं दिया है।

टीडीएस गड़बड़ी में 114 प्रॉसीक्यूशन फाइल

घुमरिया ने बताया कि टीडीएस और टीसीएस के संबंध में कड़ी कार्रवाई की जा रही है। आयरन ओर में सर्वे के दौरान टीडीएस में गड़बड़ी सामने आई है। टीडीएस डिफॉल्ट वाले झारखंड के 114 करदाताओं के खिलाफ प्रॉसीक्यूशन फाइल हो चुका है।

5 लाख से अधिक आय वाले 400 को नोटिस

घुमरिया ने कहा कि कृषि आय के रूप में पांच लाख से अधिक आय दिखाने वाले 400 लोगों को नोटिस दिया गया है। कई लोगों ने गलत आय दिखाई है। नियम के अनुसार उन्हें टैक्स देने को कहा जाएगा। कई जमीन मालिक डेवलपमेंट एग्रीमेंट करते हैं।