• Home
  • Jharkhand News
  • Nirsa
  • भालजुरिया को नगर निकाय में जोड़ने का ग्रामीणों ने किया विरोध
--Advertisement--

भालजुरिया को नगर निकाय में जोड़ने का ग्रामीणों ने किया विरोध

निरसा प्रखंड की पिठाकियारी पंचायत सचिवालय में रविवार को भालजुरिया गांव के ग्रामीणों की बैठक हुई। बैठक में निरसा...

Danik Bhaskar | Jul 09, 2018, 03:35 AM IST
निरसा प्रखंड की पिठाकियारी पंचायत सचिवालय में रविवार को भालजुरिया गांव के ग्रामीणों की बैठक हुई। बैठक में निरसा को नगर निकाय बनाए जाने तथा भालजुरिया गांव को जोड़े जाने का विरोध किया गया। ग्रामीणों ने सर्वसम्मति से धनबाद उपायुक्त, डीडीसी, सांसद, निरसा विधायक विधायक, प्रमुख, बीडीओ व सीओ को पत्र लिख भालजुरिया को नगर निकाय से दूर रखने की बात कही गई।

बैठक के दौरान ग्रामीणों ने कहा कि भालजुरिया काफी पिछड़ा व ग्रामीण क्षेत्र है। अधिकांश ग्रामीण कुम्हार जाति के हैं। वहीं शेष दिहाड़ी मजदूरी व उनके घर की महिलाएं दूसरे के घरों में काम कर अपना रोजी-रोजगार करते हैं। अगर भालजुरिया को नगर निकाय बनाया गया, तो ग्रामीणों के घरों में लगनेवाले टैक्स वे नहीं दे सकेंगे। दुर्भाग्य की बात है कि भालजुरिया में एक भी मध्य विद्यालय नहीं है और न ही स्वास्थ्य केंद्र। यहां के बच्चे दो किलोमीटर दूर स्थित स्कूलों में जाकर शिक्षा ग्रहण करते हैं। इस स्थिति में भालजुरिया को किस आधार पर नगर निकाय से जोड़ा जा रहा है। वहीं ग्रामीणों ने अधिकारियों पर आरोप लगते हुए कहा कि नगर निकाय को लेकर कब जनसुनवाई हुई इसकी जानकारी ग्रामीणों को नहीं है। अगर जनसुनवाई में ग्रामीणों को बुलाया जाता तो ग्रामीण जन सुनवाई में ही विरोध करते। गरीब ग्रामीणों पर टैक्स का बोझ नहीं बढ़ाया जाए तथा भालजुरिया को नगर निकाय से दूर रखा जाए। बैठक में गणपत चटर्जी, आनंद कुंभकार, फटीक कुंभकार, श्यामल कुंभकार, निर्मल कुंभकार, तपन दास, भगत कुंभकार, उमापति कुंभकार सहित दर्जनों की संख्या में लोगों की मौजूदगी रही।