Hindi News »Jharkhand »Nirsa» रोजगार दो या जेल दो नारे के साथ यूकोवयू का प्रदर्शन

रोजगार दो या जेल दो नारे के साथ यूकोवयू का प्रदर्शन

निरसा में रोजगार दो या जेल दो का नारा लगाते बेरोजगार युवक। भास्कर न्यूज|निरसा यूनाईटेड कोल वर्कर्स यूनियन के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 13, 2018, 03:45 AM IST

रोजगार दो या जेल दो नारे के साथ यूकोवयू का प्रदर्शन
निरसा में रोजगार दो या जेल दो का नारा लगाते बेरोजगार युवक।

भास्कर न्यूज|निरसा

यूनाईटेड कोल वर्कर्स यूनियन के तत्वावधान में गुरुवार को यूनियन के मुगमा क्षेत्रीय अध्यक्ष कमल बनर्जी के नेतृत्व में दर्जनों बेरोजगार युवकों ने मोटरसाइकिल जुलूस निकाला। इस दौरान ईसीएल मुगमा क्षेत्र की गोपीनाथपुर ओसीपी व नवनिर्मित राजा कोलियरी में लोगों ने यूनियन का झंडा बांधा। वहीं लोगों ने रोजगार दो या जेल दो के नारे भी लगाए। मौके पर यूनियन के मुगमा क्षेत्रीय अध्यक्ष कमल बनर्जी ने कहा कि प्रबंधन एक साजिश के तहत भूमिगत खदानों को बंद कर ओसीपी का निर्माण करवा रही है। साथ ही ओसीपी में उत्पादन को लेकर आउटसोर्सिंग कंपनियों को काम दिया जा रहा है। जबकि गोपीनाथपुर व बरमुड़ी को ईसीएल स्वयं संचालित कर रही है। वहीं चापापुर 10 नंबर व नवनिर्मित राजा कोलियरी को आउटसोर्सिंग से चलवाई जा रही है। ईसीएल की ओर से संचालित ओसीपी में वर्ष 2016-17 में ढाई लाख टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। वहां के कामगारों ने 4 .40 लाख टन कोयले का उत्पादन कर एक रिकॉर्ड बनाया है। जब ईसीएल के पास दक्ष कर्मी की व्यवस्था है तो आउटसोर्सिंग से काम क्यों लिया जा रहा है। प्रबंधन आउटसोर्सिंग कंपनियों से एक मोटी रकम लेकर उत्पादन के नाम पर कंपनी को नुकसान पहुंचा स्वयं मालामाल हो रहे हैं। वहीं चापापुर कोलियरी की 10 नंबर खदान को आउटसोर्सिंग के माध्यम से बीते 4 वर्षों से चलाया जा रहा है। परंतु आउटसोर्सिंग कंपनी की ओर से निर्धारित लक्ष्य का 25 प्रतिशत भी प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं। ईसीएल में संचालित विभिन्न आउटसोर्सिंग में यदि बेरोजगारों को रोजगार दिया जाए तो निरसा से बेरोजगारी दूर हो जाएगी। मौके पर परीक्षित दां, महबूब आलम, कल्लू शेख, फटीकचंद्र गोराई, धर्मेन्द्र यादव, संजय चौहान, बाम्पी चक्रवर्ती आदि मौजूद थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nirsa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×