Hindi News »Jharkhand »Noamundi» विशेष प्रार्थना सभा व मिस्सा पूजा कर एक दूसरे काे दी बधाई बाइबिल पाठ कर दिया भाईचारे का संदेश

विशेष प्रार्थना सभा व मिस्सा पूजा कर एक दूसरे काे दी बधाई बाइबिल पाठ कर दिया भाईचारे का संदेश

रोमन कैथोलिक चर्च में ईस्टर पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया। ईसा के पुनरूत्थान की याद में जेवियर मैदान में देर रात...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:00 AM IST

विशेष प्रार्थना सभा व मिस्सा पूजा कर एक दूसरे काे दी बधाई बाइबिल पाठ कर दिया भाईचारे का संदेश
रोमन कैथोलिक चर्च में ईस्टर पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया। ईसा के पुनरूत्थान की याद में जेवियर मैदान में देर रात पल्ली पुरोहित फादर हालेन बोदरा की अगुवाई में फादर थासन, फादर जुनास ने विशेष पूजा अर्चना की। जैसे ही रात के 12 बजा, प्रार्थना सभा में मौजूद विश्वासियों ने यीशू की पुनरूत्थान की याद में मोमबत्ती जलाकर व एक-दूसरे को बधाई देकर खुशी का इजहार किया। साथ ही विश्वासियों ने पुनर्जीवित यीशु मसीह को याद करते हुए अपने परिवार के स्वर्गीय परिजनों के लिए भी प्रार्थना की। पुनरूत्थान की घटना पर प्रवचन देते हुए फादर हालेन बोदरा ने कहा कि मानव की पापों की क्षमा के लिए यीशु मसीह ने साहस व बलिदान की भावना से बड़ी यातना सहकर सूली पर लटक कर मृत्यु को गले लगाया और आशा के अनुरूप तीसरे दिन पुनर्जीवित हुआ। इस दौरान रविवार सुबह भी चर्च में इस्टर की विशेष मिस्सा पूजा की गई व बाइबल पाठ किया गया। साथ ही ईसा के पुनरूत्थान की घटना दुहरायी गई। वहीं भक्तिगीत भी गाए गए। फादर हालेन ने कहा कि हमें ईसा के त्याग, साहस और बलिदान को व्यर्थ नहीं गंवाना चाहिए। हमें भी जीवन में त्याग और बलिदान का भाव प्रकट करते हुए प्रेम और भाईचारे का संदेश जन-जन के बीच फैलाने की आवश्यकता है। फादर ने ईस्टर मनाने के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए कहा हम भौतिक जीवन से निकलकर आध्यात्मिकता के लिए भी समय अवश्य दें तभी इस्टर की सार्थकता पूरा होगा। गुआ के तीन चर्चों के ईसाई समुदाय के लोगों ने कब्र पर्व मनाया।

ईस्टर पर रोमन कैथोलिक चर्च में पुरोहितों ने ईसा के पुनरूत्थान की घटना दोहरायी

ईस्टर का त्योहार मनाते ईसाई समुदाय के लोग।

नोवामुंडी में इस्टर संडे मनाते लोग।

मसीही समाज के लोगों ने इस्टर संडे मनाया

नोवामुंडी| मसीही समाज के लोगों ने प्रभु यीशु मसीह के मृत्यु के तीन दिन बाद पुनः कब्र से जीवित होने की घटना को याद करते हुए इस्टर संडे मनाया। इस अवसर पर मसीही समाज सुबह सुबह कब्रिस्तान में जा कर अपने अपने पूर्वजों को याद करते हुए उनके कब्र पर फूल माला चढ़ा और मोमबत्ती जला कर उनके आत्मा की शांति की प्रार्थना करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। पूर्वजों के कब्रों की पहले से ही साफ-सफाई एवं रंग-रोगन कर दी गई थी। इस अवसर पर गिरजा घरों की भी साज सज्जा कर रंगीन बल्बों से जगमग कर दिया गया था। ईस्टर संडे को मसीही समाज द्वारा फादर के नेतृत्व में विशेष प्रार्थना सभा आयोजित कर प्रभु यीशु से आशीष मांगा गया व एक दूसरे को बधाई दी गई। सीएनआई चर्च टॉप कैंप में फादर जेम्स विल्सन, आरसी चर्च डीवीसी फादर फेबियन तथा जीईएल चर्च तोड़ेतोपा में फादर याकूब मुंडू के ने विशेष प्रार्थना सभा संपन्न हुई।

व्यवहार में लाएं मानवीय गुण

उन्होंने कहा कि आध्यात्मिकता से हम मानवता की गूढ़ तत्व की जानकारी हासिल कर सकते हैं। ईसा के त्याग और बलिदान को जीवन का हिस्सा बनाएं। फादर बोदरा ने ईसाई समुदाय से अपील किया कि वे अपने परिवार में ईसा के प्रेम, क्षमा और बलिदान जैसी मानवीय गुण अपने व्यवहार में बरकरार रखें। प्रार्थना सभा में भक्तिगीत प्रस्तुत करने वालों में संजीव कुमार बालमुचु, रोयलेन तोपनो, रोबिन बालमुचु, आनंदिनी, रोशन मिंज, रंजीत मुंडू, अमातुस तोपनो, भगवान तोपनो, प्रमोद सुरीन, लियोनार्ड तोपनो व पौलिना टोप्पो शामिल हैं। इस अवसर पर मुख्य रूप से आशीष बिरूवा, सोमय देवगम, फ्रांसिस देवगम, पीयूष देवगम, छोटू देवगम, जॉन देवगम, दीपिका देवगम, कल्पना देवगम, किशोर तामसोय, गंगामोती दोंगो, ज्योति पूर्ति, जगरानी सुंडी, मार्ग्रेट सुंडी, जेम्स गागराई, प्रफुल्लित गागराई, जुलियाना देवगम, पैड्रिक कुजूर, आलोक बालमुचु, प्रहलाद बालमुचु, जुनुल देवगम समेत काफी संख्या में ईसाई समुदाय के महिला-पुरूष,युवा व बच्चे-बच्चियां उपस्थित थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Noamundi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×