Hindi News »Jharkhand »Palamu» मार्च से ही विकराल हो जाती है समस्या

मार्च से ही विकराल हो जाती है समस्या

साल की शुरुआत से ही गर्मी में पानी के लिए सरकार प्रस्ताव लाना शुरू कर देती है, पर भीषण गर्मी में भी सरकार से ग्रामीण...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 03:15 AM IST

मार्च से ही विकराल हो जाती है समस्या
साल की शुरुआत से ही गर्मी में पानी के लिए सरकार प्रस्ताव लाना शुरू कर देती है, पर भीषण गर्मी में भी सरकार से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को कोई विशेष लाभ नहीं पहुंच पाता है। कुछ लोगों के पास ही बोरिंग की सुविधा है, भूमिगत जल का स्तर घटने से वे भी परेशान रहते हैं।

एक दिन बीच करके हो रही जलापूिर्त

510

हैंडपंप के भरोसे हैं पलामू जिले के लोग। गर्मी में पानी के लिए करने पड़ती है मशक्कत।

105

गांवों में है पानी की सबसे ज्यादा किल्लत। पानी के लिए लोगों इधर-उधर भटकना पड़ता है।

सभी गांवों में कुछ न कुछ है समस्याएं

पलामू जिले का शायद ही ऐसा कोई गांव है जिसमें पानी पीने के लिए लोगों को पर्याप्त मात्र में उपलब्ध हो। सभी गांवों में परेशानी है।

50% शहरी आबादी भी हर साल होती है पानी के लिए परेशान

30% शहरी लोगों को ही मिली हुई है बोरिंग के पानी की सुविधा।

इनफोग्राफिक्स

पर्याप्त नहीं प्रयास

20% आबादी हर गांव की हर साल झेलती है पानी परेशानी।

50लाख रुपए सरकार की ओर से आता है पानी का बजट।

1पलामू जिले में पेयजल के लिए मात्र एक डैम की है व्यवस्था।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Palamu

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×