Hindi News »Jharkhand »Palamu» 50 प्रशिक्षुओं को दिया जा रहा है बांस केे सामान बनाने का प्रशिक्षण

50 प्रशिक्षुओं को दिया जा रहा है बांस केे सामान बनाने का प्रशिक्षण

प्रखंड के बारेसांढ़ वन विश्रामागार परिसर में पलामू व्याघ्र परियोजना दक्षिणी प्रमंडल मेदिनीनगर की पहल पर बांस से...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:00 PM IST

प्रखंड के बारेसांढ़ वन विश्रामागार परिसर में पलामू व्याघ्र परियोजना दक्षिणी प्रमंडल मेदिनीनगर की पहल पर बांस से निर्मित हस्त सामग्री का प्रशिक्षण आठ जनवरी से ५० महिला-पुरुष को छोटानागपुर आदिवासी हरिजन उत्थान समिति मेदिनीनगर द्वारा दिया जा रहा है।

यह प्रशिक्षण सात फरवरी तक चलेगा। इस दौरान महिला-पुरुष ने एक से बढक़र एक सुंदर और रंग-बिरंगी सामग्रियां बनाई, जिसमें टोपी, ट्रे, पेन-स्टैंड, फूलदानी, लेटर बॉक्स, फूल, टूल, सुराही, गमला, कुर्सी, बेड, सोफा आदि शामिल हैं, जिसे ग्राहकों द्वारा खरीदा भी जा रहा है। प्रशिक्षण पाने आए चेतमा, बारेसांढ़, मायापुर के शेरा प्रसाद, विभा कुमारी, राखी कुमारी, विक्टोरिया कुजूर, संतोष कोरवा, सुशील कोरवा, करमा कोरवा, अशोक कोरवा के अलावे अन्य लोगों ने बताया कि इस तरह का प्रशिक्षण पहली बार हो रहा है, जिससे हमलोग काफी खुश हैं। ट्रेनर भी हमलोगों को सिखाने में काफी मेहनत कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि हमलोगों को कमाने के लिए कहीं नहीं भटकना पड़ेगा।

घर में बैठे-बैठे रोजगार मिल जाएगा, जिससे अच्छी-खासी कमाई होगी। इस संबंध में समिति के समन्वयक अजय कुमार ने बताया कि प्रशिक्षण में आए लोग काफी मेहनत कर रहे हैं और सामान भी सुंदर बना रहे हैं, जिसे बाजार में बेचने पर अच्छी कीमत मिलेगी। उन्होंने बताया कि इस प्रशिक्षण को देखकर गांव के अन्य लोगों में भी काफी उत्साह देखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि फरवरी में दूसरे बैच की ट्रेनिंग कराने का प्रयास किया जाएगा, जिसके लिए ५० लोगों की सूची जल्द बनाकर विभाग को सौंपी जाएगी, ताकि दूसरे बैच को भी प्रशिक्षण दिया जा सके। मौके पर समिति के सचिव मनोज कुमार, रेंजर भोला प्रसाद सिंह, वनपाल कामता सिंह, ट्रेनर धनेश्वर महली, अकला महली के अलावे काफी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

गारू में प्रशिक्षुओं द्वारा बनाई गई बांस की सामग्री।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Palamu

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×