पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोवा से लौटे पिता-बेटी की माैत महिला की करा रहे झाड़फूंक

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

पलामू जिला के सुशीगंज गांव में गोवा से मजदूरी कर लौटे पिता अाैर बेटी की एक सप्ताह में माैत हो गई है। एक का शव दफना दिया गया, जबकि दूसरे के शव को जला दिया गया है। इसी परिवार की एक महिला भी किसी बीमारी से पीड़ित हैं। घरवाले उसका झाड़फूंक करा रहे हैं। जानकारी पाकर स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव पहुंची है। इधर, गांव में पिता-पुत्री की मौत से ग्रामीणों में खौफ है।

अनुमंडल अस्पताल के प्रभारी डॉ राजेश अग्रवाल ने बताया कि गांव के गहनु भुइयां (55) की मौत 14 मार्च को हाे गई थी। उसकी बेटी करमी (30) की मौत 20 मार्च को हाे गई। गहनु की बहू सविता देवी बीमार हैं। बेटा प्रमोद भुइयां मामले काे तंत्र-मंत्र से जुड़ा मानकर झाड़फूंक कराने हैदरनगर के बाद गढ़वा के मझिआंव ले गया है। सूचना मिलने के बाद मेडिकल टीम उसके गांव गई थी, लेकिन घर का काेई सदस्य नहीं मिला। उनकी खोजबीन की जा रही है। जांच के बाद ही पता चल पाएगा कि मामला क्या है? डाॅ अग्रवाल के अनुसार, प्रमोद भी गोवा मजदूरी करने गया था। सूचना मिली है कि उसकी तबीयत ठीक है। ऐसे में कोरोना से मौत बताना अभी उचित नहीं हाेगा। जांच के बाद ही स्पष्ट रूप से जानकारी दी जा सकती है।

7 मार्च काे परिवार लाैटा था घर

ग्रामीणों के अनुसार, प्रमोद भुइयां गोवा मजदूरी करने गया था। वह होली में शामिल होने के लिए 7 मार्च को घर पहुंचा। इसके बाद पहले गहनु बीमार हुआ। उसे सर्दी-खांसी और बुखार थी। 14 मार्च को उसकी मौत हो गई। इसी बीच उसकी बेटी करमी भुइयां बीमार पड़ गई। उसे भी सर्दी-खांसी, बुखार थी। 20 मार्च को उसने भी दम तोड़ दिया। 21 मार्च काे मृतक की बहू बीमार पड़ गई। पंचायत के मुखिया पंकज पासवान ने बताया कि गहनु भुइयां 12 मार्च को बीमार पड़ा। दाे दिन बाद मौत हो गई। यही समस्या उसकी बेटी करमी को भी हुई। 20 मार्च को अस्पताल से घर लौटी थी। घर में उसी दिन मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...