रजा आैर मां ललिता हॉस्पिटल में आयुष्मान भारत से इलाज पर सरकार ने लगाई रोक

Palamu News - सरकार के उप सचिव(स्वास्थ्य विभाग) अभिषेक श्रीवास्तव ने रजा हॉस्पिटल-शाहपुर और मां ललिता हॉस्पिटल-छतरपुर में...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 09:06 AM IST
Medininagar News - government ban on treatment of ayushman india in raja and mother lalita hospital
सरकार के उप सचिव(स्वास्थ्य विभाग) अभिषेक श्रीवास्तव ने रजा हॉस्पिटल-शाहपुर और मां ललिता हॉस्पिटल-छतरपुर में आयुष्मान भारत योजना से इलाज पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दिया है। उप सचिव के द्वारा सीएस को प्रेषित पत्र में जिक्र किया है कि स्टेट टीम ने बीते 5 मार्च को रजा हॉस्पिटल-शाहपुर का जांच किया था। जांच में कोई एमबीबीएस डॉक्टर और प्रशिक्षित नर्स नहीं मिले।

हॉस्पिटल में बिजली की वैकल्पिक व्यवस्था ,रोगियों के लिए बेड की व्यवस्था नहीं मिली। एक्सरे और खून की जांच करते पाया गया जबकि एमओयू में उसका जिक्र नहीं किया गया है। हॉस्पिटल में गंदगी ही गंदगी मिली। वहीं, दूसरी ओर बीते 23 मार्च को मां ललिता हॉस्पिटल-छतरपुर के जांच में दवा और जांच के नाम पर पैसा लेते हुए पाया गया।

हॉस्पिटल में एक चिकित्सक और एक नर्सिंग स्टॉफ मिले। ओटी को अन-हाइजेनिक पाया गया। साफ-सफाई की कोई व्यवस्था नहीं थी। स्टेट टीम के जांच प्रतिवेदन के आधार पर अगले आदेश तक आयुष्मान भारत योजना से इलाज पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दिया है। दोनों अस्पताल के प्रबंधक को 15 दिनों में व्यवस्था में सुधार कर रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया है। गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग के द्वारा नियम-कानून को ताक पर रखकर आयुष्मान भारत योजना से निजी अस्पतालों एवं नर्सिंग हाेम से एमओयू किया गया है, जहां स्वास्थ्य सुविधा, चिकित्सक या नर्सिंग स्टॉफ नियमानुकूल नहीं है। इसकी शिकायत मिलने पर स्टेट टीम ने बिना किसी को सूचना दिए उक्त दाेनों अस्पतालों का औचक निरीक्षण किया,इसमें टीम को खामी ही खामी मिली। टीम के रिपोर्ट के आधार पर आयुष्मान भारत योजना से इलाज पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दिया है।

चुनाव बाद निबंधन की हाेगी समीक्षा

सिविल सर्जन डॉ. जॉन एफ केनेडी ने कहा कि सरकार के आदेशानुसार रजा हॉस्पिटल-शाहपुर और मां ललिता हॉस्पिटल-छतरपुर में आयुष्मान भारत योजना से इलाज पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दिया गया है। उन्होंने कहा कि चुनाव के बाद आयुष्मान भारत योजना के तहत निबंधित निजी अस्पताल,नर्सिंग होम की समीक्षा होगी। उसमें आहर्ता को पूरा नहीं करने वाले अस्पताल,नर्सिंग होम का निबंधन को रद्द किया जाएगा।

रजा अस्पताल का भवन।

आयुष्मान भारत से जिले के 51 अस्पताल, नर्सिंग होम हैं निबंधित

आयुष्मान भारत योजना में निबंधन कराने के लिए जिले के कुल 68 अस्पताल, नर्सिंग होम आदि ने आवेदन दिया था। इसमें से अब तक 51 का ही निबंधन किया गया। इसमें सदर अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, मनातू, पांकी हुसैनाबाद, चैनपुर, हरिहरगंज, लेस्लीगंज, विश्रामपुर, पाटन, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, तरहसी, एसडीएच-छतरपुर, डॉ किरण सिंह क्लिनिक, वंशीधर सेवा समिति,श्री नरायणा सुपर स्पेशीलिटी अस्पताल, सोनाक्षी नेत्र चिकित्सालय, एके उपाध्याय मेमोरियल अस्पताल, आशी लाइफ केयर अस्पताल, नवजीवन अस्पताल, एसपीएस अस्पताल, जन विकास ट्रस्ट अस्पताल, जय मां जौहरिया अस्पताल, संजीवनी अस्पताल, मां ललिता अस्पताल, सूर्या क्लिनिक, अजीजी हॉस्पिटल, विध्यांचल हॉस्पिटल, राजपित सेवा आश्रम, सत्या नर्सिंग होम, मैटरनिटी एंड सर्जिकल सेंटर, जानकी मेमोरियल अस्पताल, मां तारा सेवा क्लिनिक, लाइफलाइन हॉस्पिटल, लांग लाइफ हॉस्पिटल, आर्यन हॉस्पिटल,श्री लीलावती हॉस्पिटल, आशु केयर, प्रकाश आई केयर, हेल्थ केयर हॉस्पिटल, हैप्पी क्लिनिक, वर्मा सेवा सदन, वर्मा हॉस्पिटल एंड रिसर्च, आरोग्यम हॉस्पिटल एंड सर्जिकल सेंटर, रजा हॉस्पिटल, शशि स्वास्थ्य संस्थान, डाॅ सीके मिंज हॉस्पिटल, यूरोलोजी एंड सर्जरी सेंटर, मां गुलाबी सेवा सदन, विश्रामपुर मेडिकेयर हॉस्पिटल, आनंद सेवा सदन, आरोग्य सेवा सदन, चैनपुर सरकारी अस्पताल शामिल है।

X
Medininagar News - government ban on treatment of ayushman india in raja and mother lalita hospital
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना