Hindi News »Jharkhand »Patratu» वेतन-भत्ता बढ़ाने की मांग पर सेविकाओं की हड़ताल आज से, निकाला मशाल जुलूस

वेतन-भत्ता बढ़ाने की मांग पर सेविकाओं की हड़ताल आज से, निकाला मशाल जुलूस

आंगनबाड़ी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर वेतन-भत्ता बढ़ाने समेत ग्यारह सूत्री मांगों को लेकर सेविका...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 17, 2018, 03:30 AM IST

आंगनबाड़ी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर वेतन-भत्ता बढ़ाने समेत ग्यारह सूत्री मांगों को लेकर सेविका और सहायिकाओं ने 17 जनवरी से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है। हड़ताल की सफलता को लेकर मंगलवार को गोलारोड स्थित तुलसी देवी स्मृति भवन में आंगनबाड़ी कर्मचारी सभा की बैठक हुई। जिसमें मुख्य रूप से उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के संयोजक मो. गुलजार अंसारी, जिलाध्यक्ष जयंती देवी, प्रदेश सदस्य प्रदीप शर्मा सहित संघ के कई पदाधिकारी शामिल हुए। मंच संचालन जिला सचिव मिन्हाज अंसारी ने किया। बैठक में संघ के पदाधिकारियों ने सरकार पर आंगनबाड़ी सेविका और सहायिका पर उपेक्षात्मक रवैया अपनाने का आरोप लगाया। संघ के सदस्यों ने कहा कि सरकार उनकी मांगों को नजरअंदाज कर रही है। जिसके विरोध में बुधवार से सभी आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका हड़ताल पर जाने को मजबूर हैं।

हड़ताल की सफलता को लेकर बैठक के बाद आंगनबाड़ी सेविका और सहायिकाओं ने देर शाम शहर में मशाल जुलूस निकाला। जिसमें रामगढ़, दुलमी, चितरपुर, गोला, मांडू और पतरातू प्रखंड से आयी सैकड़ों की संख्या में सेविका और सहायिका शामिल हुए। मशाल जुलूस गोलारोड स्थित तुलसी देवी स्मृति भवन से निकाला गया। इसके बाद सभी सेविका और सहायिका हाथों में मशाल लेकर सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए शहर के गांधी चौक पहुंचे। जहां सेविका और सहायिकाओं ने जमकर प्रदर्शन किया। मौके पर रंजू शुक्ला, रेखा देवी, गायत्री देवी, ललिता देवी, कुसूम देवी, प्रमिला देवी, बसीरून निशा, बानेश्वरी देवी, माधुरी देवी, राना आस्मिन, बसंती, गीता, सुष्मा, शीला, अनिता, हुस्ना बानो, नाजमा परवीन, मंजू देवी, शकीला बानो सहित सैकड़ों सेविका और सहायिका शामिल थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patratu

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×