• Hindi News
  • Jharkhand News
  • Pirtand
  • पारसनाथ के स्वास्थ्य केंद्रों मंे नहीं है ऑक्सीजन की व्यवस्था
--Advertisement--

पारसनाथ के स्वास्थ्य केंद्रों मंे नहीं है ऑक्सीजन की व्यवस्था

जैनियों के विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल मधुबन में स्वास्थ्य सेवा बिल्कुल चरमरा गई हंै। यहां स्वास्थ्य केन्द्र लचर...

Dainik Bhaskar

May 14, 2018, 03:40 AM IST
जैनियों के विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल मधुबन में स्वास्थ्य सेवा बिल्कुल चरमरा गई हंै। यहां स्वास्थ्य केन्द्र लचर स्थिति में है। यहां जैनियों के 24 में से 20 तीर्थंकरों को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। पूरे विश्व के तीर्थ यात्री व सैलानी यहां प्रत्येक वर्ष आते हैं। बावजूद सरकार की ओर से न ही जैन संस्थाओं की ओर से यहां कोई चिकित्सा की समुचित व्यवस्था है।

पारसनाथ पर्वत में बीपी के मरीज अत्यधिक चढ़ाव रहने के कारण अत्यधिक रक्तचाप के कारण ऑक्सीजन सिलेंडर के अभाव में परेशान हो जाते हैं। कई बार ऐसे मरीजों को इलाज के लिए यहां से बाहर रेफर करना पड़ता है। वैसे पीरटांड़ प्रखंड में दो। चिरकी एवं पालगंज में स्वास्थ्य केन्द्र एवं मधुबन सहित अन्य 13 जगहों में स्वास्थ्य उपकेन्द्र काम करता है। किसी भी उपकेन्द्र में कभी भी कोई डाॅक्टर नहीं बैठते हैं। विधायक, डीसी सहित कई बार कई नेता, अधिकारी डाॅक्टर बैठने की घोषणा कर चुके हैं। लेकिन विभाग एवं प्रभारी के कानों में जूं तक नही रेंगती है। कई बार दुर्घटना घटित मरीज को मधुबन-चिरकी केन्द्र में लाया गया। लेकिन डाॅक्टर एवं कर्मचारी नहीं रहने के कारण या तो वो दम तोड़ दिया अथवा उसे प्राइवेट में अथवा गिरिडीह में इलाज कराना पड़ा। इसे लेकर राजनीति दल के लोग अथवा ग्रामीण आवाज भी बुलंद किए हैं। लेकिन बदले में उनके ऊपर झूठा मुकदमा दर्ज कर दिया गया है। मधुबन-पीरटांड़ की जनता अब तारणहार की बाट जोह रहे हैं।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..