Hindi News »Jharkhand »Pirtand» लेटलतीफी : बेटी की शादी के दिन टेंट लेकर मदद करने आई पुलिस को घरवालों ने लौटाया

लेटलतीफी : बेटी की शादी के दिन टेंट लेकर मदद करने आई पुलिस को घरवालों ने लौटाया

अपने कर्तव्यों को लेकर जगजाहिर पुलिस को एक बार फिर शर्मिंदगी झेलनी पड़ी। पुलिस ने बेटी की शादी को भी उसी नजरिए से...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 30, 2018, 03:40 AM IST

लेटलतीफी : बेटी की शादी के दिन टेंट लेकर मदद करने आई पुलिस को घरवालों ने लौटाया
अपने कर्तव्यों को लेकर जगजाहिर पुलिस को एक बार फिर शर्मिंदगी झेलनी पड़ी। पुलिस ने बेटी की शादी को भी उसी नजरिए से देखा। जिस वजह से मधुबन पुलिस की समाज में काफी किरकिरी हुई। पीरटांड़ स्थित बांध पंचायत के पांडेयडीह के एक परिवार ने बेटी की शादी के लिए कुछ दिन पूर्व पुलिस अधीक्षक से मदद मांगी थी। 29 जून यानि, शुक्रवार को उसकी बेटी की शादी निर्धारित थी। लेकिन, पुलिस शादी के दिन ही शुक्रवार को टेंट और अन्य सामग्री लेकर गांव पहुंची। जिससे नाराज होकर परिवार ने टेंट को वापस कर दिया। परिवार के सदस्यों का कहना था कि, लोगों से रुपए मांगकर शादी के लिए टेंट लगाया जा चुका है। राशन भी नाम मात्र का है, इससे क्या होगा। काफी मानमनोव्वल पर परिवार वालों ने सामग्री को रख लिया।

पुलिस के शिविर में कुछ दिन पहले महिला ने बेटी की शादी में मांगी थी मदद, पर शादी के दिन मिलने पर जताया एतराज

पुलिस से मिली सामाग्री।

पुलिस की ओर से दी गई सामग्री

चावल - 25 किलो चावल, दाल - 10 किलो, आलू - 20 किलो, आटा- 10 किलो

प्याज - 10 किलो, तेल- 5 लीटर तेल, इसके अलावा-साड़ी और कपड़े, नमक, रिफाइन वगैरह।

पुलिस को परिवार ने बता दी थी शादी की तारीख

पांडेडीह में कुछ दिनों पहले पुलिस की ओर से एक शिविर लगाकर सामान का वितरण किया जा रहा था। इसमें लोगों की परेशानी और समस्याओं को दूर करने की बात भी प्रशासन द्वारा कही गई थी। इसी दौरान एक महिला ने पुलिस अधीक्षक से अपनी बेटी की शादी में सहयोग करने की अपील की थी। उसी दौरान शादी की निर्धारित तारीख और दिन भी बताई गई थी। उसी के मद्देनजर पुलिस प्रशासन की ओर से बेटी की शादी के लिए मदद के तौर पर टेंट और सामग्री महिला के घर भिजवाई गई थी।

इधर-उधर से मांग लिया तो पुलिस मदद की क्या जरूरत

परिवार वालों का कहना है कि हमने शादी के लिए सहायता मांगी थी। लेकिन जब शादी की तैयारी हमने खुद इधर-उधर से मांगकर कर लिया और टेंट भी लग चुका है तो पुलिस की मदद की क्या जरूरत। पुलिस अपने सामान ले जाए। राशन भी काफी कम है। साथ ही शादी में पुलिस मौजूद रहेगी तो गलत संदेश जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pirtand

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×