Hindi News »Jharkhand »Pirtand» धनबाद के अप्सरा होटल से पूर्व नक्सली जीतन मरांडी समेत 6 को पुलिस ने उठाया

धनबाद के अप्सरा होटल से पूर्व नक्सली जीतन मरांडी समेत 6 को पुलिस ने उठाया

क्राइम रिपोर्टर| धनबाद/गिरिडीह गिरिडीह पुलिस ने नया बाजार स्थित अप्सरा होटल में छापेमारी कर नक्सली गतिविधियों...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 16, 2018, 03:40 AM IST

धनबाद के अप्सरा होटल से पूर्व नक्सली जीतन मरांडी समेत 6 को पुलिस ने उठाया
क्राइम रिपोर्टर| धनबाद/गिरिडीह

गिरिडीह पुलिस ने नया बाजार स्थित अप्सरा होटल में छापेमारी कर नक्सली गतिविधियों में शामिल पीरटांड़ के जीतन मरांडी सहित छह लोगों को हिरासत में लिया है। पकड़े गए लोगों में दो कमरे में ठहरे चार लोग शामिल हैं। साथ ही उनसे मिलने आए दो लोगों को भी पुलिस ने उठा लिया। छापेमारी को लेकर काफी गोपनीयता बरती गई है। दो बिना नंबर की गाड़ी से सिविल ड्रेस पहुंचे पुलिस पदाधिकारी ने होटल के मैनेजर से बात करने के बाद सीधे कमरे पहुंचे और चारों को पकड़ लिया। पुलिस को पता चला कि इन लोगों से दो लाेग मिलने आए हैं। पुलिस ने उन दोनों को भी पकड़ लिया। होटल के कमरों को पुलिस ने खंगाला। कमरे से बैग मिला जिसे पुलिस अपने कब्जे में ले लिया। 25 मिनट के अंदर पूरी कार्रवाई करने के बाद पुलिस हिरासत में लिए गए सभी को अपने वाहन में बिठा कर चलते बने। धनबाद पुलिस को भी छापेमारी की भनक नहीं लग पाई। पुलिस जीतन सहित अन्य को किस आरोप में हिरासत में लिया और कहां ले गई, यह पता नहीं चल पाया। हालांकि पुलिस पूर्व नक्सली के हिरासत में लिए जाने की बात कह रही है लेकिन आधिकारिक पुष्टि नहीं की। वहीं, गिरिडीह पुलिस भी गिरफ्तारी की बात से इनकार कर रही है।

कमरा नंबर 124 जीतन और 105 जीतेंद्र के नाम से बुक कराया गया था

होटल का कमरा नंबर 124 जीतन मरांडी के नाम से 14 मई दोपहर 12:05 पर बुक कराया गया था। उसके साथ हरि प्रसाद नामक युवक था। कमरा बुक कराने के लिए जीतन ने आईडी दिया है, उसमें पता पिता स्व बुधान मरांडी, करांडो, पीओ चिलगा, पीएस पीरटांड़, गिरिडीह, चिलगा, पीरटांड़ गिरिडीह दर्ज है। धनबाद आने का मकसद बिजनस लिखा गया है। 1 हजार रुपया एडवांस जमा भी किया गया था। जीतन के साथ कमरा में ठहरा हरि प्रसाद का कोई आईडी होटल को उपलब्ध नहीं कराया गया। वहीं कमरा नंबर 105 जीतेंद्र महतो के नाम से था। उक्त कमरा भी 14 मई सुबह 11:45 बजे जीतेंद्र ने बुक कराया था। कमरा में उसके साथ कुणाल महतो ठहरा हुआ था। कमरा का किराया 1100 रुपए एडवांस जमा कराया गया था। कुणाल का आईडी नहीं मिला लेकिन जीतेंद्र का पता कलेश्वर महतो, सादमा महतो टोला, हैष विद्यालय सादमा के पास ओरमांझी रांची दर्ज है। धनबाद आने का कारण आफिस का काम लिखा गया। हालांकि मिलने आए दो व्यक्तियों का पहचान नहीं हो पाई।

जीतन और जीतेंद्र का आईडी

चिलखारी सामूहिक हत्याकांड में आया था जीतन का नाम

जीतन मरांडी का नाम गिरिडीह के चिलखारी गांव में 26 अक्टूबर 2007 में बाबूलाल मरांडी का पुत्र अनूप मरांडी सहित 20 लोगों की हुई सामूहिक हत्या में सामने आया था। गांव में दिन में फुटबाल प्रतियोगिता का आयोजन किया था, जिसका उद्घाटन बाबूलाल के भाई नुनूलाल मरांडी ने किया था। वहीं रात में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन था। अनूप भी कार्यक्रम देखने पहुंचा था। देर रात नक्सलियों का दस्ता पहुंचा और माइक से नुनूलाल को सामने आने को कहा। इसके बाद नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। घटना में अनूप के सर में गोली लगने से मौत हो गई थी। इसके अलावा 19 ग्रामीणों की मौत हो गई थी। इस मामले में पुलिस ने जीतन को गिरफ्तार किया था। कोर्ट में जीतन के खिलाफ मुकदमा चला लेकिन हाईकोर्ट निर्दोष पाए जाने पर उसे बरी कर दिया।

होटल के सामने खड़ी पुलिस की गाड़ी

होटल का रजिस्टर जीतन मरांडी व हरि प्रसाद कमरा नंबर 124

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pirtand

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×