Home | Jharkhand | Potka | पारंपरिक नृत्य में संस्कृति की झलक

पारंपरिक नृत्य में संस्कृति की झलक

कार्यशाला में नृत्य प्रस्तुत करते भूमिज समाज के लोग। भूमिज युवाओं की क्षमता को बढ़ाने में अग्रणी भूमिका निभाने...

Bhaskar News Network| Last Modified - Mar 12, 2018, 03:20 AM IST

पारंपरिक नृत्य में संस्कृति की झलक
पारंपरिक नृत्य में संस्कृति की झलक
कार्यशाला में नृत्य प्रस्तुत करते भूमिज समाज के लोग।

भूमिज युवाओं की क्षमता को बढ़ाने में अग्रणी भूमिका निभाने पर बासंती सम्मानित

भास्कर न्यूज | जादूगोड़ा

आदिवासी भूमिज युवाओं की चिंतन क्षमता विकसित करने को लेकर पिछली सामुदायिक भवन (पोटका) में दो दिवसीय कार्यशाला का सामूहिक सांस्कृतिक नृत्य के साथ रविवार को समापन हो गया। इधर भूमिज समाज में अग्रणी भूमिका व बेहतर भागीदारी को लेकर युवा नेत्री बासंती सरदार को आदिम भूमिज मुंडा कल्याण समिति पिछली व आदिवासी भूमिज सरना अखाड़ा (बड़ा सिकदी, पोटका) ने संयुक्त रूप से सम्मानित किया। इस दौरान आदिवासी भूमिज समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष सिद्धेश्वर सरदार ने कहा कि बासंती सरदार ने बीते तीन सालों में समाज को आगे ले जाने व सामाजिक कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने को लेकर समाज की ओर से प्रोत्साहन स्वरूप शॉल ओढ़ाकर व स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया। इधर सम्मान पाकर युवा नेत्री बासंती सरदार ने कहा कि समाज ने उसे यह सम्मान देकर उसकी जिम्मेदारी दुगुनी बढ़ा दी है। सम्मान समारोह में डोकरसाई, पांडूडीह, सोहदा बोराकाटा, बाढेडीह, माटकू, तेतला चांदपूर, बालीडीह, पिछली, बड़ा सिकदी, तिरिलडीह, कुदादा के ग्रामीणों के अलावा पश्चिम बंगाल के सामाजिक कार्यकर्ता जीतेन सिंह, संतोष सिंह सरदार ( पश्चिम बंगाल) विष्णु सरदार, रूपाली भूमिज, राजकिशोर सरदार ( मयूरभंज) आदिवासी भूमिज समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष सिद्धेश्वर सरदार के अलावा काफी संख्या में भूमिज समाज के युवा-युवतियां शामिल थीं।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now