--Advertisement--

संस्कृति बचाने के लिए महिलाओंं ने किया नृत्य

जादूगोड़ा | झारखंडी संस्कृति को बचाने को लेकर नरवा पहाड़ स्थित हाड़तोपा फुटबॉल मैदान नाहा बूढी़ आदिवासी नृत्य...

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2018, 03:25 AM IST
संस्कृति बचाने के लिए महिलाओंं ने किया नृत्य
जादूगोड़ा | झारखंडी संस्कृति को बचाने को लेकर नरवा पहाड़ स्थित हाड़तोपा फुटबॉल मैदान नाहा बूढी़ आदिवासी नृत्य हुआ। बाबा तिलका माझी मेमोरियल सोसासटी की ओर से आयोजित इस कार्य्रकम में झारखंडी संस्कृति की झलक देखने को मिली। इस अवसर पर समारोह के मुख्य अतिथि सह झामुमो के केंद्रीय महासचिव बाबूलाल सोरेन ने कहा कि नाच-गान से ही आदिवासी संस्कृति का वजूद बचेगा। इसके पूर्व उनका भव्य स्वागत किया गया। नृत्य मंडली का उत्साह बढ़ाने के लिए खुद मांदर की थाप पर नृत्य किया। समारोह के अंत में बेहतर प्रदर्शन करने वाली नृत्य मंडली को पुरस्कृत भी किया गया। इस मौके पर बाबा तिलका मेमोरियल सोसाइटी की ओर से लखन हेंब्रम, मधुसूदन मुर्मू, सोमाय किस्कू, मुखिया मालती हांसदा, ग्राम प्रधान पीरू किस्कू, दशमत मुर्मू, जिप अध्यक्ष बुलूरानी सिंह, पोटका प्रमुख सुकूरमणी टुडू, गाजिया हांसदा ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

X
संस्कृति बचाने के लिए महिलाओंं ने किया नृत्य
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..