Hindi News »Jharkhand »Potka» विद्यार्थी अपनी संस्कृति पहचानें : हांसदा

विद्यार्थी अपनी संस्कृति पहचानें : हांसदा

अनुमंडल के विभिन्न क्षेत्रों में बाहा बोंगा पूजा परंपरागत रीति-रिवाज के साथ मनाया गया। इस मौके पर नायके ने पूजा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 27, 2018, 03:30 AM IST

विद्यार्थी अपनी संस्कृति पहचानें : हांसदा
अनुमंडल के विभिन्न क्षेत्रों में बाहा बोंगा पूजा परंपरागत रीति-रिवाज के साथ मनाया गया। इस मौके पर नायके ने पूजा अर्चना कराई। उसके बाद सामूहिक नृत्य में ग्राम वासियों ने जमकर नृत्य किया। कई स्थानों पर खेलकूद प्रतियोगिता भी हुई। सोमवार को घाटशिला कॉलेज के जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा विभाग और घाटशिला कॉलेज छात्रसंघ की ओर से बाहा मिलन समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रो. के एम हांसदा ने की। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के तौर पर झामुमो जिलाध्यक्ष सह पूर्व विधायक रामदास सोरेन व विशिष्ट अतिथि के तौर पर जिप सदस्य देवयानी मुर्मू उपस्थित थीं। कॉलेज के छात्रों ने पूरे विधि विधान के साथ बाहा बोंगा की पूजा की। इस दौरान नायके की भूमिका आदिवासी छात्रावास के परफेक्ट टीका राम सोरेन ने निभाई। कार्यक्रम का संचालन सिदो मार्डी ने किया। वहीं कॉलेज के एनसीसी कैडेटों ने बाहा मिलन समारोह में व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाली। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को स्वादिष्ट सोड़े (खिचड़ी) का वितरण किया गया।

इस दौरान संथाल समुदाय के लोग पारंपरिक वेशभूषा धारण कर मांदर व नगाड़े की थाप पर जमकर थिरके। वहीं मुख्य अतिथि रामदास सोरेन भी मांदर की थाप पर नृत्य में भाग लिया। समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए प्रो के एम हांसदा ने कहा कि कॉलेज में बाहा मिलन समारोह का मकसद है कि विद्यार्थी अपनी संस्कृति व सभ्यता को पहचानें। बाहा प्रकृति से जुड़ा है, यह पर्व संथाल समाज का जीवन दर्पण है। वहीं मुख्य अतिथि रामदास सोरेन ने उपस्थित विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि बाहा पर्व संथाल समाज की प्रकृति के साथ सामंजस्य स्थापित करने का पर्व है।

मौके पर ये थे मौजूद

झामुमो जिलाध्यक्ष सह पूर्व विधायक रामदास सोरेन, जिप सदस्य देवयानी मुर्मू, बुद्धेश्वर मार्डी, प्रो. के एम हांसदा, प्रो. एमडीपी सिंह, डॉ एम एन सिंह, डॉ एसपी सिंह, प्रो. संदीप चंद्रा, मानिक मार्डी, बासंती मार्डी, आर सी मंडल, छात्रसंघ अध्यक्ष मंगल हेंब्रम, उपाध्यक्ष अंजली मार्डी, सचिव फुदान मुर्मू, संयुक्त सचिव संदीप हांसदा, उपसचिव सांखी हेंब्रम, विवि प्रतिनिधि बासेत हांसदा, सिदो मार्डी, श्वेता टुडू, मधु हांसदा, वाहिद अली, दशमत मुर्मू, टीका राम सोरेन, मोहन लाल टुडू सहित शिक्षक-शिक्षकेत्तर कर्मी व विद्यार्थी मौजूद थे।

जागेरगढ़ में मनाई गई रजत जयंती

दिशोम जाहेरगढ़ यूसील नरवा पहाड़ कॉलोनी में 25वां वर्ष पूरा होने पर रजत जयंती मनाई गई। इस मौके पर आदिवासी समाज मरांगबुरू व जाहेर आयो की पूजा-अर्चना की व लोगों के बीच भोग का वितरण किया गया। इस अवसर पर यूसील के अपर प्रबंधक पी के नायक, पोटका प्रमुख सुकुरमुनी टुडू, राम चंद्र मार्डी, गाजियां हांसदा, ज्ञानरंजन टुडू, रंजीत हांसदा, जयराम सोरेन, रामदु बास्के ने हिस्सा लिया।

भास्कर न्यूज | घाटशिला

अनुमंडल के विभिन्न क्षेत्रों में बाहा बोंगा पूजा परंपरागत रीति-रिवाज के साथ मनाया गया। इस मौके पर नायके ने पूजा अर्चना कराई। उसके बाद सामूहिक नृत्य में ग्राम वासियों ने जमकर नृत्य किया। कई स्थानों पर खेलकूद प्रतियोगिता भी हुई। सोमवार को घाटशिला कॉलेज के जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा विभाग और घाटशिला कॉलेज छात्रसंघ की ओर से बाहा मिलन समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रो. के एम हांसदा ने की। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के तौर पर झामुमो जिलाध्यक्ष सह पूर्व विधायक रामदास सोरेन व विशिष्ट अतिथि के तौर पर जिप सदस्य देवयानी मुर्मू उपस्थित थीं। कॉलेज के छात्रों ने पूरे विधि विधान के साथ बाहा बोंगा की पूजा की। इस दौरान नायके की भूमिका आदिवासी छात्रावास के परफेक्ट टीका राम सोरेन ने निभाई। कार्यक्रम का संचालन सिदो मार्डी ने किया। वहीं कॉलेज के एनसीसी कैडेटों ने बाहा मिलन समारोह में व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाली। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को स्वादिष्ट सोड़े (खिचड़ी) का वितरण किया गया।

इस दौरान संथाल समुदाय के लोग पारंपरिक वेशभूषा धारण कर मांदर व नगाड़े की थाप पर जमकर थिरके। वहीं मुख्य अतिथि रामदास सोरेन भी मांदर की थाप पर नृत्य में भाग लिया। समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए प्रो के एम हांसदा ने कहा कि कॉलेज में बाहा मिलन समारोह का मकसद है कि विद्यार्थी अपनी संस्कृति व सभ्यता को पहचानें। बाहा प्रकृति से जुड़ा है, यह पर्व संथाल समाज का जीवन दर्पण है। वहीं मुख्य अतिथि रामदास सोरेन ने उपस्थित विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि बाहा पर्व संथाल समाज की प्रकृति के साथ सामंजस्य स्थापित करने का पर्व है।

कार्यक्रम में बाहा नृत्य प्रस्तुत करतीं छात्राएं।

पूजा में दी गई मुर्गे की बलि

मुसाबनी| मुसाबनी प्रखंड के उत्तरी ईचड़ा पंचायत की मुखिया रेखा उरांव के गांव तिरिलघुटू में सरहुल पर्व पर कार्यक्रम हुआ। इस क्रम में नायके बाबा द्वारा विधिवत रूप से पूजा अर्चना के साथ उपस्थित लोगों के बीच महाप्रसाद के रूप में खिचड़ी का भोग वितरण किया गया। पूजा के क्रम में मुर्गे की बली दी गई। कार्यक्रम का उद्घाटन मुखिया रेखा उरांव ने किया। इसके बाद उन्होंने खुद इस कार्यक्रम में चार चांद लगाने के लिए पारंपरिक लोक गीत पर नृत्य किया। पूजा के बारे में मुखिया रेखा उरांव ने बताया कि इस पूजा में साल के पेड़ की पूजा की जाती है।

मांदर की थाप पर थिरकते पूर्व विधायक रामदास सोरेन व अन्य।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Potka

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×