• Home
  • Jharkhand News
  • Rajrappa
  • आषाढ़ी पूजा कर मांगी बेहतर उपज और सुख-समृद्धि
--Advertisement--

आषाढ़ी पूजा कर मांगी बेहतर उपज और सुख-समृद्धि

सिद्धपीठ रजरप्पा स्थित छिन्नमस्तिका मंदिर में सोमवार को भक्तिभाव के साथ आषाढ़ी पूजा की गई। इस दौरान दोपहर 12:00 बजे...

Danik Bhaskar | Jul 10, 2018, 03:50 AM IST
सिद्धपीठ रजरप्पा स्थित छिन्नमस्तिका मंदिर में सोमवार को भक्तिभाव के साथ आषाढ़ी पूजा की गई। इस दौरान दोपहर 12:00 बजे माता का विशेष श्रृंगार हुआ। मौके पर मां भगवती को 56 प्रकार के व्यंजनों का भोग लगाकर आशीर्वाद मांगी गई। पूजा अर्चना के दौरान पारंपरिक ढोल नगाड़े व झांझ की मधुर ध्वनि मंदिर प्रक्षेत्र में गूंजती रही।

आषाढ़ी पूजा पूरे पारंपरिक ढंग व वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हुई। दिन के 12 बजे मंदिर के पुजारी पारंपरिक बाजे के साथ मंदिर पहुंचे और पूजा-अर्चना शुरू की। सबसे पहले गंगाजल और दूध के अलावे कई प्रकार के द्रव्यों से माता का विशेष स्नान कराया गया। इसके बाद गुलाब, कमल समेत दो दर्जन फूलों से माता का श्रृंगार किया गया। आरती के बाद प्रसाद वितरण किया गया, जहां सैकड़ों भक्तों ने कतारबद्ध होकर प्रसाद ग्रहण किया।

आषाढ़ी पूजा के बारे में मंदिर न्यास समिति के असीम पंडा ने बताया की यह पूजा प्रतिवर्ष की जाती है। पूजा कर माता छिन्नमस्तिका से बेहतर फसल, देश, राज्य व समाज की तरक्की, सुख-शांति की कामना की जाती है। मौके पर अजय पंडा, शुभाशीष पंडा, छोटन पंडा, गुड्डू पंडा, लोकेश पंडा, छोटू पंडा, अंबुज पंडा, सुबोध पंडा, रंजीत पंडा, बृजेश पंडा, दीपक पंडा, विप्लव पंडा,पप्पू पंडा, सोनू पंडा, आशीष पंडा, सेतु पंडा, राजेश पंडा, राकेश पंडा, दुलाल पंडा मौजूद थे।

आषाढ़ एकादशी के मौके पर सिद्धपीठ रजरप्पा के छिन्नमस्तिका मंदिर में हुआ आषाढ़ी पूजा का आयोजन

छिन्नमस्तिका मंदिर परिसर में ढोल नगाड़ा बजाकर माता की पूजा करते पंडा समाज के सदस्य।