Hindi News »Jharkhand »Ramgarh» टेंडर के पेंच में फंसी टैंकर जलापूर्ति योजना तीन वार्ड के लोगों को करना होगा इंतजार

टेंडर के पेंच में फंसी टैंकर जलापूर्ति योजना तीन वार्ड के लोगों को करना होगा इंतजार

गोलपार के वाटर हेंड पोस्ट पर पानी के लिए रखे गए बर्तन व डब्बे। जल्द जारी किया जाएगा टैंकर का नया टेंडर

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:35 AM IST

  • टेंडर के पेंच में फंसी टैंकर जलापूर्ति योजना तीन वार्ड के लोगों को करना होगा इंतजार
    +3और स्लाइड देखें
    गोलपार के वाटर हेंड पोस्ट पर पानी के लिए रखे गए बर्तन व डब्बे।

    जल्द जारी किया जाएगा टैंकर का नया टेंडर

    गर्मी शुरु होने से पहले ही टेंडर की प्रक्रिया पूरी कर लेनी चाहिए। ताकि, पेयजल समस्या की भयावह स्थिति से पहले ही पानी की व्यवस्था की जा सके। नईसराय क्षेत्र ऊंचाई पर होने के कारण जलस्तर काफी नीचे हैं इसलिए टैंकर से जलापूर्ति शुरू कर देनी चाहिए। अप्रैल में टेंडर निकाला गया था पर तकनीकी कारणों से वह रद्द हो गया। जल्द ही नया टेंडर जारी कर टैंकरों से जलापूर्ति शुरू की जाएगी। ‘’ अनमोल सिंह, उपाध्यक्ष, कैंटोनमेंट बोर्ड रामगढ़।

    टेंडर के बाद लोगों को मिलेगा टैंकर से पर्याप्त पानी

    क्षेत्र में पड़ रही भीषण गर्मी को देखते हुए वार्डो के लोगों को पर्याप्त मात्रा में पानी मिल सके इसके लिए बोर्ड प्रयास में जुट गया है। पहला टेंडर अर्हताएं पूरी नहीं होने की वजह से रद्द हो गया था। अब, मई की शुरुआत में टेंडर निकालने की तैयारी है। इसके बाद वाटर सप्लाई से वंचित तीन वार्डो में टैंकरों से पानी उपलब्ध कराया जाएगा।’’ केएन तिवारी, स्वच्छता निरीक्षक, कैंटोनमेंट बोर्ड रामगढ़

    टैंकर से जलापूर्ति ही विकल्प

    वार्ड एक में टैंकर से जलापूर्ति ही विकल्प है। घनी अाबादी के साथ कई इलाके पिछड़े भी हैं। ऐसे में यहां पानी की विकट समस्या है। टेंडर की प्रक्रिया जल्द पूरी कर टैंकर से जलापूर्ति शुरु होनी चाहिए। ‘’ बेबी प्रसाद,वार्ड सदस्य,वार्ड संख्या एक।

    शहरी क्षेत्र के वार्डों में 10 लाख गैलन पानी की जरूरत, मिलता है आठ लाखशहरी क्षेत्र में प्रतिदिन आठ लाख गैलन पेयजल आपूर्ति की जाती है। यह जलापूर्ति पर्याप्त नहीं है। 10 लाख गैलन पानी की जरूरत है। ऐसे में तीन वार्ड 1, 2 व 7 के अलावा शेष सभी वार्डों में भी टैंकरों से जलापूर्ति की आवश्यकता है। हालांकि, लोगों को राहत दिलाने के लिए बिना टेंडर की प्रक्रिया ही बोर्ड द्वारा अति आवश्यक स्थिति में टैंकर से जलापूर्ति की जाती है पर वह नाकाफी है। वहीं, बोर्ड के एक-एक लाख गैलन पानी की क्षमता वाली तीन टंकियों से भी जलापूर्ति कर रही है इसके बावजूद इन वार्डोंं में पर्याप्त पानी नहीं मिल पा रहा है। साथ ही वार्डोंं में करीब 110 वाटर स्टैंड पोस्ट है। विभाग की मानें तो सभी आठ वार्डों में बोर्ड के अधीन 350 चापाकल है, इनमें से कई पूरी तरह खराब हो चुके हैं।

    जलस्तर नीचे चला जाता है

    वार्ड संख्या सात के लोग गर्मी में टैंकर से जलापूर्ति पर ही निर्भर हैं। दूर-दराज इलाकों के कुएं का जल स्तर नीचे चला जाता है। चापाकल से भी पर्याप्त पानी नहीं मिल पाता है इसलिए, टैंकर जलापूर्ति से लोगों को पानी पहुंचाया जाएगा।’’ प्रभु करमाली, वार्ड सदस्य, वार्ड संख्या सात।

  • टेंडर के पेंच में फंसी टैंकर जलापूर्ति योजना तीन वार्ड के लोगों को करना होगा इंतजार
    +3और स्लाइड देखें
  • टेंडर के पेंच में फंसी टैंकर जलापूर्ति योजना तीन वार्ड के लोगों को करना होगा इंतजार
    +3और स्लाइड देखें
  • टेंडर के पेंच में फंसी टैंकर जलापूर्ति योजना तीन वार्ड के लोगों को करना होगा इंतजार
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ramgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×