Hindi News »Jharkhand »Ramgarh» सिलिकोसिस लाइलाज बीमारी, इससे बचाव जरूरी

सिलिकोसिस लाइलाज बीमारी, इससे बचाव जरूरी

श्रम एवं नियोजन विभाग के तत्वावधान में कारखाना निरीक्षाणालय ने गुरुवार को इफिको स्थित गेस्ट हाउस के सभागार में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 13, 2018, 03:50 AM IST

सिलिकोसिस लाइलाज बीमारी, इससे बचाव जरूरी
श्रम एवं नियोजन विभाग के तत्वावधान में कारखाना निरीक्षाणालय ने गुरुवार को इफिको स्थित गेस्ट हाउस के सभागार में सिलिकोसिस बीमारी से बचाव को लेकर फैक्ट्री में कार्यरत पदाधिकारियों और मजदूरों के बीच कार्यशाला का आयोजन किया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए कारखाना निरीक्षक शिवानंद लागुरी, परमानंद प्रसाद और रणविजय तिग्गा ने रामगढ़ के सरकारी और गैरसरकारी (फैक्ट्रियों) संस्थानों में कार्यरत पदाधिकारियों और मजदूरों को बताया कि सिलिकोसिस लाइलाज बीमारी है। इसमें सांस के द्वारा सूक्ष्म कण मनुष्य के फेफड़े में चला जाता है। मजदूरों को इससे बचाव काफी जरूरी है। उन्होंने कहा कि यह बीमारी स्टोन क्रशर, ग्राइंडिंग फैक्ट्री, ग्लास इंडस्ट्रीज के अलावे आयरन प्लांट में कार्यरत मजदूरों में फैलता है। ऐसे उद्योगों से वातावरण में फैलनेवाले धूलकणों को इंजीनियरिंग कंट्रोल मेथड के साथ-साथ नियमित चिकित्सीय जांच जरूरी है। पदाधिकारियों ने फैक्ट्री संचालकों को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करने को कहा। कार्यशाला में मुख्य रूप से एसआरयू इफिको, बीआरएल, बिहार फाउंड्री, दयाल स्टील, वेंकटेश आयरन, गोला मिनरल्स सहित विभिन्न उद्योगों के प्रतिनिधि आदि मौजूद थे।

सेमिनार में मजदूरों को संबोधित करते फैक्ट्री निरीक्षक शिवानंद लागुरी ।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ramgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×