सड़क पर टायर जलाकर रास्ता राेका, शव के साथ ट्रैक पर बैठी भीड़ रेल के पहिए थमे व वाहनाें का चक्का जाम, दिनभर बंद रहीं दुकानें

Ramgarh News - भास्कर न्यूज | रामगढ़/बरकाकाना बरकाकाना रेलवे कॉलोनी में शनिवार रात 8 बजे रेलकर्मी अशोक राम के घर में घुसकर पांच...

Aug 19, 2019, 07:25 AM IST
भास्कर न्यूज | रामगढ़/बरकाकाना

बरकाकाना रेलवे कॉलोनी में शनिवार रात 8 बजे रेलकर्मी अशोक राम के घर में घुसकर पांच लाेगाें काे कार्बाइन से गाेली मारने की घटना के विराेध में रविवार काे दिनभर हंगामा चलता रहा। अारपीएफ जवान पवन कुमार सिंह की गाेली से अशाेक राम, उनकी प|ी लीलावती देवी अाैर बेटी मीना देवी माैत हाे गई थी, जबकि उनके एक बेटे संजय राम अाैर बेटी का रांची में इलाज चल रहा है। आरोपी अारपीएफ जवान पवन कुमार सिंह, भोजपुर (बिहार) रहनेवाला है।

अाक्रोशित लोगों ने अाराेपी जवान की गिरफ्तारी अाैर मृतक के परिजनाें काे नाैकरी व एक कराेड़ रुपए मुअावजा की मांग पर बरकाकाना में रविवार काे सड़क अाैर रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया। स्थानीय लोग बरकाकाना रेलवे जंक्शन गेट के पास टायर जलाकर रामगढ़-पतरातू सड़क को जाम कर दिया। 3.30 बजे शवों को रेलवे लाइन पर रख कर कार्रवाई की मांग करने लगे। शाम करीब 5.30 बजे रेल अधिकारियों के लिखित आश्वासन के बाद सड़क व रेलवे लाइन से जाम हटा लिया गया। इस दाैरान दिनभर दुकानें बंद रहीं। वार्ता में एडीआरएम एसी चौधरी, रेल एसपी दीपक कुमार सिन्हा, डीटीएम अजंय कुमार, आरपीएफ कमांडेंट हेमंत कुमार, एसडीपीओ पतरातू प्रकाशचंद्र महतो अादि मौजूद थे। जाम की वजह से लोगों को 5 किमी तक पैदल रामगढ़ जाना पड़ा। देर रात दामोदर नदी घाट पर तीनों शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

आिखर इन िनर्दोषों का कसूर क्या था...

अशोक राम।

रेल व पुलिस अधिकारियों ने की जांच, पीड़ितों को इंसाफ िदलाने का आश्वासन

घटना के बाद डीआईजी हजारीबाग पंकज कम्बोज, रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार, रेल एसपी दीपक कुमार सिन्हा, आरपीएफ कमांडेंट हेमंत कुमार, जीआरपी डीएसपी संजू कुमार, अपर मंडल रेल प्रबंधक केसी चैधरी, डीटीएम अंजय कुमार तिवारी सहित कई अधिकारी बरकाकाना स्टेशन और घटनास्थल पर पहुंचे। लोगों को समझाने बुझाने का प्रयास किया गया। अधिकारियों ने उचित मुआवजा दिलाने और दोषी को पकड़कर कड़ी कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया। आरपीएफ कमांडेट हेमंत कुमार ने कहा कि जवान पवन कुमार सिंह को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। घटना मार्मिक है, लेकिन लोगों को शांति व्यवस्था बनाए रखनी चाहिए। पीड़ित परिवार के दुख से सभी दुखी हैं। न्याय दिलाने का प्रयास किया जाएगा।

दैनिक भास्कर से मृत रेलकर्मी के घायल बेटे संजय ने सुनाई घटना

मृतक रेल कर्मचारी अशाेक राम के बेटे संजय राम के कमर में गाेली लगी है। वे रांची में इलाज करा रहे हैं। संजय ने दैनिक भास्कर से कहा-आरपीएफ जवान पवन कुमार सिंह मेरे घर से दूध लेता था। मां (लीलावती देवी) ही दूध के काराेबार का हिसाब-करती थीं। पवन पैसे देने में अानाकानी करता था। 15 दिन पहले पैसा नहीं देने पर मां ने उसे दूध देना बंद कर दिया था। शनिवार काे ही उसने समय पर पैसे देने की बात कहकर दूध फिर से देने की बात कही थी। पवन रात 8 बजे हमारे घर पहुंचा। उस वक्त हमलाेग कमरे में टीवी देख रहे थे। पवन घर में घुसा। मां से दूध लिया अाैर अचानक उनपर गाेलियां चला दी। पिताजी (अशाेक राम) अाैर बहन मीना देवी गए ताे उनकाे भी गाेली मार दी। इसके बाद हमलाेग गए ताे पवन ने मुझे अाैर मेरी बहन काे गाेली मार दी। घटना के बाद वह फरार हो गया। हमारी चीख-पुकार सुनकर पड़ोसी जुटे और अस्पताल भेजा। वहां पता चला कि मां-पिताजी अाैर बहन मीना देवी की माैत हाे गई। मेरी बहन प्रियंका कुमारी (22) और भाई बिट्टू (25) कमरे के अंदर थे, वे बच गए। सुमन अाैर मीना रक्षाबंधन पर हमारे घर आई थीं।

रांची में भर्ती संजय राम।

लीलावती देवी।

मीना देवी।

पवन कुमार सिंह।

अाराेपी की गिरफ्तारी अाैर अाश्रिताें काे नाैकरी-मुअावजा की मांग पर ट्रैक व सड़क जाम

रेलवे ट्रैक पर शव को रखकर कार्रवाई की मांग करते लोग।

फोरेंसिक टीम ने की घटनास्थल की जांच

रांची की फोरेंसिक टीम बरकाकाना पहुंची। चार सदस्यीय टीम ने मृतक रेलकर्मी के घर की बारीकी से जांच की। घर के कमरे से खून के धब्बे, फिंगर प्रिंट सहित कई सबूत जुटाए। अधिकारियों ने बताया कि जांच के दौरान घर से 9 एमएम गोली का 7 खोखा, 3 जिंंदा कारतूस, गोली का पैकेट बरामद की गई है। जांच के बाद रिपोर्ट तैयार की जाएगी।

बरकाकाना : दिनभर परेशान रहे रेलयात्री

बरवाडीह-गोमो पैंसेजर का परिचालन ठप रहने से यात्रियों को परेशानी हुई। स्टेशन और आसपास की दुकानें बंद रहने से यात्रियाें काे सुबह से शाम तक भूखे-प्यासे रहना पड़ा। यात्री रीना देवी ने बताया कि टोरी से बोकारो थर्मल जाने के लिए वे ट्रेन पर बैठी थी। उनका जाना बेहद जरूरी था। घटना की जानकारी होती तो आवागमन के दूसरे साधन का उपयोग कर लेती।

रेलवे ट्रैक जाम कर मांग करते लोग।

अगले महीने मां बनने वाली थी मीना देवी

बरकाकाना रेलवे काॅलोनी के क्वार्टर 10 (ए) में रहने वाले रेलकर्मी अशोक राम की बेटी मीना देवी गर्भवती थीं। वे अगले महीने मां बनने वाली थीं। लेकिन, सनकी जवान ने उन्हें गाेलियाें का शिकार बना दिया। गाेली लगने से उनकी माैत हाे गई। मृतक अशोक राम की बेटी सुमन देवी और बेटा संजय राम रांची के मेदांता हॉस्पीटल में इलाजरत है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना