एक्टिव सरकार / पौने पांच साल में हुईं कैबिनेट की 197 बैठकें, राज्य गठन के बाद सबसे ज्यादा



मुख्यमंत्री रघुबर दास। मुख्यमंत्री रघुबर दास।
X
मुख्यमंत्री रघुबर दास।मुख्यमंत्री रघुबर दास।

  • 15 नवंबर 2000 से अब तक मुख्यमंत्री और राष्ट्रपति शासन में हुईं कुल 643 बैठकें
  • रघुवर के 57 माह के एक कार्यकाल में 197 बैठकें, अर्जुन मुंडा के 70 माह के तीन टर्म में 194 बैठकें
     

Dainik Bhaskar

Oct 10, 2019, 05:52 AM IST

रांची.15 नवंबर 2000 को अलग झारखंड राज्य बनने के बाद राज्य में 10 मुख्यमंत्री बने। 3 बार राष्ट्रपति शासन रहा। कुल मिलाकर अन्य मुख्यमंत्रियों के 12 साल के कार्यकाल में कैबिनेट की 355 बैठकें हुई। कुल 20 माह के राष्ट्रपति शासन की अवधि में राज्यपाल की परामर्शी परिषद (कैबिनेट का विकल्प) की 91 बैठकें हुईं। वहीं, वर्तमान सीएम रघुवर दास के 57 माह के एक कार्यकाल में 197 बैठकें हुई हैं, जो राज्य गठन के बाद के किसी भी सरकार से ज्यादा हैं।
राज्य में पहली बार कोई मुख्यमंत्री अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगा
कुल छह नेता राज्य में सीएम बने हैं। बाबलाल मरांडी, मधु कोड़ा, हेमंत सोरेन और रघुवर दास एक-एक बार और अर्जुन मुंडा व शिबू सोरेन तीन-तीन बार मुख्यमंत्री रहे। राष्ट्रपति शासन के लगभग 20 महीनों का कार्यकाल हटा दिया जाए, तो राज्य निर्माण के पूरे होने जा रहे 19 वर्षों में 17 वर्ष सामान्य शासन रहा। इन 17 वर्षों में पौने पांच साल का कार्यकाल रघुवर दास का पूरा होेने जा रहा है। रघुवर दास ही पहली बार इस राज्य में अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा करेंगे। किसी दूसरे मुख्यमंत्री ने पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया। अन्य सरकार की तुलना में सबसे अधिक कैबिनेट की 197 बैठकें रघुवर दास के कार्यकाल में होने का रिकार्ड बना है। अर्जुन मुंडा के तीन टर्म के कार्यकाल में 194 कैबिनेट बैठकें हुईं।

 

किस सीएम के कितनी बैठकें की

 

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना