--Advertisement--

नौकरी के नाम पर युवती को ठगा, पैसा वापसी के लिए पतंजलि के नाम से 10 खाते खुलवाए; फिर डीलरशिप के नाम पर ठगे 50 लाख

ठगी में साथ देने के आरोप में कडरू की युवती गिरफ्तार, मुख्य आरोपी फरार

Dainik Bhaskar

Aug 12, 2018, 03:44 AM IST
50 lakh fraud on patanjali dealership accused run away

रांची. राजधानी में ठगी का अनोखा मामला सामने आया है। कडरू की एक युवती को पुलिस ने 50 लाख रुपए के फ्रॉड मामले में गिरफ्तार किया है। जबकि मुख्य आरोपी फरार है। इसे लेकर तीन थानों में एफआईआर दर्ज कराई गई है। अरगोड़ा, डोरंडा और नरकोपी की पुलिस फरार अभियुक्त आदित्य कुमार सिंह उर्फ शिव उर्फ पटेल को सरगर्मी से तलाश रही है। एफआईआर के अनुसार, गिरफ्तार युवती मूल रूप से नरकोपी के पिपरटोली की रहने वाली है।

पतंजलि का डीलरशिप देने के नाम पर की ठगी: कडरू में वह किराए के मकान में रह रही थी। ठगी की प्राथमिकी वाराणसी के व्यवसायी आनंद कुमार सिंह ने अरगोड़ा थाने में दर्ज कराई थी। इसमें उन्होंने बताया है कि उन्हें बाबा रामदेव की संस्था पतंजलि का डीलरशिप देने के एवज में आदित्य कुमार सिंह ने पांच लाख रुपए पतंजलि के नाम से खुले बैंक अकाउंट में जमा करवाए। लेकिन न तो उन्हें कोई डीलरशिप मिली और न ही उनके पैसे। जब उन्होंने उस खाताधारी की तलाश की, जिसमें पांच लाख रुपए ट्रांसफर किए थे, तो पता चला कि वह अकाउंट एक महिला के नाम पर है, जो पिपरटोली नरकोपी की रहने वाली है। युवती ने अरगोड़ा थाना प्रभारी रतिभान सिंह को फ्रॉड का फोन नंबर बताया है, जिसके आधार पर तलाश की जा रही है।

नौकरी का आवेदन देने के बाद हुई ठगी की शिकार: पूछताछ में गिरफ्तार युवती ने बताया कि मैंने डाक विभाग में नौकरी के लिए आवेदन किया था। उसी दौरान मुझे एक व्यक्ति ने फोन किया और कहा कि चूंकि तुम्हारे दो अंक कम अाए हैं, इसलिए तुम नौकरी के लिए अयोग्य हो। अगर पैसे खर्च करोगी तो उसे नौकरी मिल जाएगी। यह सुन मैंने घर वालों से पैसे लिए। कुछ राशि का जुगाड़ नहीं हो पाया तो कर्ज भी ले लिया। फिर 1.55 लाख रुपए जमा कर फोन करने वाले व्यक्ति को दे दिया। लेकिन मुझे न नौकरी मिली और न ही पैसे वापस हुए। परिजनों को जानकारी हुई तो उनलोगों ने भी मुझे यह कहते हुए घर से निकाल दिया कि अब तुम ही कमाओ और कर्ज चुकाओ। घर से निकाले जाने के बाद मैंने ठगी करने वाले को कॉल किया और कहा कि मैं गरीब परिवार से हूं। मैंने कर्ज लेकर पैसे दिए हैं, इसलिए लौटा दो। इस पर ठग ने कहा कि अगर तुमने अपने नाम से बैंक अकाउंट खोला तो पूरी राशि वापस कर देगा।


उस फ्रॉड के कहने पर मैंने अपना नाम बदल पतंजलि रख लिया। फिर ठग ने उसी नाम से कई फर्जी आधार कार्ड बनवाए। करीब 10 बैंकों में पतंजलि के नाम से खाता खोले और एटीएम कार्ड समेत पूरी डिटेल फ्रॉड ने अपने पास रख लिए। इसके बाद उसने पतंजलि का डीलरशिप देने के नाम पर अखबारों में विज्ञापन दिया। विज्ञापन देख कई लोगों ने संपर्क किया। फ्रॉड ने सबको पतंजलि के अकाउंट में पैसा जमा करने को कहा। लोगों ने भी पतंजलि का अकाउंट देख भरोसा कर लिया और किसी ने पांच लाख तो किसी ने 2.50 लाख रुपए डीलरशिप लेने के लिए खाते में जमा कर दिए। पैसे खाते में आने के बाद फ्रॉड लगभग 50 लाख रुपए लेकर फरार हो गया और मैं फंस गई।

X
50 lakh fraud on patanjali dealership accused run away
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..