--Advertisement--

आदिवासी महिलाओं से छल करने वालों को 24 घंटे में गिरफ्तार करे : महिला आयोग

शरण ने कहा कआंदोलन करने वालों को अगर हक दिलाने की इतनी ही चिंता थी तो वे अपनी मां-बहनों को भी इस कतार में खड़ा कर देते।

Danik Bhaskar | Dec 22, 2017, 08:31 AM IST
दैनिक भास्कर : 19 दिसंबर। दैनिक भास्कर : 19 दिसंबर।

धनबाद. आदिवासी महिलाओं की निर्वस्त्र फोटो सोशल मीडिया पर डालने के मामले को राज्य महिला आयोग ने गंभीरता से लिया है। गुरुवार शाम राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण ने डीसी ए दोड्डे और एसएसपी मनोज रतन चोथे के साथ बैठक कर घटना के बारे में विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने दोषी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करते हुए 24 घंटे के अंदर गिरफ्तार करने की बात कही। शरण ने कहा कि घटना की लिखित शिकायत पर मामले की जांच शुरू की जाए। शरण ने कहा कि महिलाओं को इस तरह बेआबरू करना गलत बात है। इसके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।


- निरसा की घटना को निंदनीय बताते हुए शरण ने कहा " आंदोलन के नाम पर इस तरह महिलाओं का अपमान नहीं किया जाना चाहिए। अगर आप महिलाओं का सम्मान नहीं कर सकते तो अपमान करने का अधिकार भी किसी को नहीं हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं के साथ धोखा हुआ है। मैं भी एक महिला हूं। किसी भी महिला को अपमानित होते कैसे देख सकती हूं। जिस कोख से आप पैदा हुए उसे अपमानित होता कैसे देख सकते हैं। आंदोलन करने वालों को अगर हक दिलाने की इतनी ही चिंता थी तो वे अपनी मां-बहनों को भी इस कतार में खड़ा कर देते।"

- शरण ने कहा " ऐसा न करें कि जिससे समाज और राज्य के लोगों को सर शर्म से नीचे झुक जाए। आयोग महिलाओं के पक्ष में है और वह चाहती है कि इस मामले में जो लोग भी दोषी हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।"

जनवादी मंच का विरोध
विस्थापितों के समर्थन में गुरुवार को भ्रष्टाचार विरोधी जनवादी मंच के सदस्यों ने प्रदर्शन किया। कहा कि डीवीसी के विस्थापितों से जमीन तो लिया गया,लेकिन इसके बदले में न तो नौकरी दिया गया और न ही मुआवजा।