रांची

--Advertisement--

कॉमन इंट्रेंस टेस्ट से होगा बीएड कॉलेजों में एडमिशन, ड्राफ्ट पर शिक्षामंत्री की मंजूरी

एनसीटीई रेगुलेशन के लिए एक बीएड कॉलेज में एक सत्र के लिए 100 स्टूडेंट्स का एडमिशन का प्रावधान है।

Danik Bhaskar

Mar 13, 2018, 02:10 AM IST

रांची. झारखंड के सरकारी और निजी बीएड कॉलेजों के एडमिशन प्रक्रिया में अगले सत्र से बदलाव हो जाएगा। अब कॉमन इंट्रेंस टेस्ट के माध्यम से स्टूडेंट्स का एडमिशन लिया जाएगा। उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग द्वारा ऑर्डिनेंस का ड्राफ्ट भी तैयार कर लिया गया। इस पर विभागीय मंत्री डॉ. नीरा यादव ने स्वीकृति प्रदान कर दी है।

ड्राफ्ट के अनुसार इंट्रेंस एग्जामिनेशन झारखंड कंबाइंड इंट्रेंस कंपीटिटिव एग्जामिनेशन बोर्ड (जेसीईसीईबी) के माध्यम से लिया जाएगा। एडमिशन के लिए पहले जेसीईसीईबी द्वारा बीएड कोर्स में एडमिशन के लिए इच्छुक अभ्यर्थियों से आवेदन आमंत्रित किया जाएगा। राज्य में वर्तमान में 110 बीएड कॉलेज है, जिसका राज्य के सात यूनिवर्सिटी से एफिलिएशन प्राप्त है। एनसीटीई के अनुसार 100-100 सीटों पर एडमिशन होता है।

85 प्रतिशत सीट राज्य के विवि पास छात्रों के लिए

एनसीटीई रेगुलेशन के लिए एक बीएड कॉलेज में एक सत्र के लिए 100 स्टूडेंट्स का एडमिशन का प्रावधान है। इसमें से 85 सीटें (85 प्रतिशत) राज्य के विश्वविद्यालयों में पढ़ रहे स्टूडेंट्स के लिए आरक्षित रहेगा। यानि राज्य के उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले स्टूडेंट्स को प्राथमिकता दी गई है। शेष 15 प्रतिशत सीटें ओपन रहेगा।

एडमिशन के लिए स्नातक में 50 प्रतिशत अंक हो


बीएड कोर्स में एडमिशन के इच्छुक अभ्यर्थियों के लिए स्नातक के किसी भी स्ट्रीम में 50 प्रतिशत अंक का होना जरुरी है। इससे कम अंक रहने की स्थिति में अभ्यर्थी को बीएड कोर्स के लिए अयोग्य समझा जाएगा। बीएड में एडमिशन के अभ्यर्थी को दो विषय का नाम देना होगा, जिसमें स्नातक की परीक्षा में 50 प्रतिशत अंक आया हो।

Click to listen..