--Advertisement--

मेडिकल स्टूडेंट ने सुसाइड नोट में लिखा- मैं डिप्रेशन में हूं, इसलिए जिंदगी से क्विट कर रही हूं

अंतिम मैसेज भेजा था, जिसमें लिखा है... 'सॉरी पापा। सॉरी भइया। मैं डिप्रेशन हूं इसलिए जिंदगी से क्विट कर रही हूं।'

Danik Bhaskar | Jan 21, 2018, 08:36 AM IST

आदित्यपुर (जमशेदपुर). आदित्यपुर की रहने वाली 27 साल की डॉ. ममता राय की केरल के कोच्चि शहर में संदिग्ध हालात में मौत हो गई। वे दिल्ली के एम्स अस्पताल में कार्यरत थीं। वहीं से पीजी भी कर रही थीं। गुरुवार को कोच्चि में आयोजित एक मेडिकल कॉन्फ्रेंस में गई थीं। कॉन्फ्रेंस स्थल के पास होटल में उनकी डेड बॉडी मिली।

पिता बोले- बेटी ने सुसाइड नहीं की; शादी से मना करने पर दिल्ली के डॉ. संजय कुमार ने मार डाला
- आदित्यपुर आश्रम कॉलोनी के रहने अरविंद कुमार राय ने कहा, उनकी बेटी डॉ. ममता राय आत्महत्या नहीं कर सकती। शादी से मना करने पर दिल्ली के डॉ. संजय कुमार और उसके दोस्तों ने हत्या की है। हत्या से पहले उसने ममता से सुसाइड नोट लिखवाकर रखाया था। वह चर्मरोग पर आयोजित कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेने के लिए कोच्चि गई थी। 18 जनवरी की रात 10.30 बजे तक वह ठीक थी।

होटल में मिला शव

- दरअसल, ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (एम्स) की डॉ. ममता की लाश 19 जनवरी की दोपहर कोच्चि के एक होटल में मिली थी। बेटी की मौत की सूचना पर अरविंद, बेटे अमित के साथ कोच्चि पहुंचे। अर्नाकुलम के सेंट्रल पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज कराई।
- उन्होंने एम्स दिल्ली के डॉ. संजय, उनके दोस्त आलोक और नेहा पर हत्या का आरोप लगाया है।

डॉ. ममता का सुसाइड नोट- मैं डिप्रेशन में हूं... इसलिए जिंदगी से क्विट कर रही हूं
- पुलिस होटल स्टाफ को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। डॉ. ममता की मोबाइल भी खंगाली जा रही हैं।

- उसने परिजनों को अंतिम मैसेज भेजा था, जिसमें लिखा है... 'सॉरी पापा। सॉरी भइया। मैं डिप्रेशन हूं इसलिए जिंदगी से क्विट कर रही हूं।' हालांकि, होटल के कमरे में सुसाइड नोट की हार्ड कॉपी नहीं मिली है।

पिता अरविंद ने रिपोर्ट में यह लिखा है...
'वह स्कूल टॉपर थी। एम्स, दिल्ली की गोल्ड मेडलिस्ट है। अंतरराष्ट्रीय स्तर के क्विज और कॉन्फ्रेंस की विजेता बनी। वह ऐसे काम नहीं कर सकती। उसे एम्स के डॉ. संजय, दोस्त आलोक और नेहा ने प्रताड़ित किया। धमकी दी और षड्यंत्र रचकर हत्या कर दी। डॉ. संजय ने ममता के समक्ष शादी का प्रस्ताव रखा था। ममता ने मना कर दिया। डॉ. संजय उससे मारपीट करता था। धमकी देता था कि किसी को बताया तो पूरे परिवार को खत्म कर देगा। 02 जनवरी को भी उसने ममता से मारपीट की थी। वह मुझसे कोई भी बात नहीं छिपाती थी, लेकिन धमकी के कारण उसने नहीं बताया। 19 जनवरी को मुझसे बात हुई थी। उसने कहा था, कॉन्फ्रेंस से निकलकर बात करती हूं। सुबह 10.30 बजे दोस्त रिमी को फोन किया और रोते हुए बोली की उसे कोच्चि अभी छोड़ना है। रिनी ने पटना का टिकट लेकर आ जाने को कहा। मैंने सुबह 11 और दोपहर 12 बजे बात करने की कोशिश की, लेकिन बात नहीं हो सकी। कोच्चि से जाने की सूचना पर डॉ. संजय ने उससे सुसाइड नोट लिखवाया और पंखे से लटककर जान देने पर विवश किया। मैंने सीबीआई जांच की मांग की है।'