--Advertisement--

पत्थलगड़ी नहीं, यह अफीम की अवैध खेती की लड़ाई: CM दास, मामले पर लोगों को गुमराह कर रही है सरकार: शिबू सोरेन

झारखंड में पत्थलगड़ी पर बीजेपी और झामुमो के अपने-अपने तर्क आए सामने।

Danik Bhaskar | Mar 05, 2018, 02:35 AM IST

रांची. झारखंड में चल रहे पत्थलगढ़ी के मुद्दे पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि लड़ाई पत्थलगड़ी की नहीं, बल्कि 100 एकड़ जमीन पर अफीम की अवैध खेती की है। उग्रवादियों द्वारा अवैध काम करने वालों को संरक्षण दिया जा रहा है। ऐसे लोगों को पनपने नहीं दिया जाएगा। उन गांवों में गरीबों की क्या स्थिति है, यह भी देखना होगा। रघुवर दास रहे या नहीं, राज्य रहेगा, इसलिए गलत काम करने वालों का विरोध होना ही चाहिए। उनसे पूछा गया था कि खूंटी और अन्य जगहों पर हो रही पत्थलगड़ी की जानकारी सरकारी तंत्र को नहीं थी, क्या तंत्र कमजोर है?

पत्थलगड़ी पर लोगों को भ्रमित कर रही है सरकार : शिबू सोरेन

झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन ने खूंटी सहित अन्य जिलों में आदिवासी समुदाय की पत्थलगड़ी को सही बताया है। जमशेदपुर में उन्होंने कहा कि संविधान की रक्षा के लिए आदिकाल से परंपरा का निर्वहन हो रहा है। लेकिन, राज्य सरकार अब इस पर लोगों को दिग्भ्रमित करने का काम कर रही है। पत्थलगड़ी में कोई हिंसा नहीं हो रही है। परंपरा के अनुरूप आदिवासी समुदाय काम कर रहा है, क्योंकि आदिवासी समुदाय का जल, जंगल और जमीन पर हक है। इसके साथ खिलवाड़ करने नहीं दिया जाएगा।