रांची

--Advertisement--

दूल्हे के हाथ की एक अंगुली कटी देख दुल्हन ने शादी से किया इंकार, फिर आया नया मोड़

सिंदूर दान की रस्म अदायगी के दौरान दुल्हन की नजर दूल्हे की अंगुली पर पड़ी तो वह सहम गई।

Danik Bhaskar

Mar 15, 2018, 01:56 AM IST
दूल्हा और दुल्हन दूल्हा और दुल्हन

गालूडीह (रांची). बड़बिल थाना क्षेत्र में एक शादी समारोह में उस समय अजीबो गरीब स्थिति उत्पन्न हो गई, जब दूल्हे के दाएं हाथ की एक अंगुली कटी देख दुल्हन ने सात फेरे लेने से इंकार कर दिया। इस मामले को लेकर रातभर बारातियों की फजीहत हुई। इसके बाद सुबह पुलिस की उपस्थिति में दोनों वर-वधू सात फेरे लेकर सात जन्म तक साथ-साथ जीने मरने की कसम खाई। ये था मामला...

- आदित्यपुर के अमित की शादी गालूडीह थाना क्षेत्र के बड़बिल गांव में तय हुई थी।

- मंगलवार की रात आदित्यपुर से करीब 60 से 70 की संख्या में नाचते-गाते हुए बड़बिल पहुंची। यहां बारातियों का भव्य स्वागत किया गया।

- रात करीब 2 बजे शादी के मंच पर दूल्हा व दुल्हन को लाया गया। सिंदूर दान की रस्म अदायगी के दौरान दुल्हन की नजर दूल्हे की अंगुली पर पड़ी तो वह सहम गई।

- उसने देखा कि दूल्हे की एक अंगुली नहीं है। उसके बाद उसने यह बात अपने परिजनों को बताई।

तीन घंटे तक चलती रही बहस

- लड़की पक्ष वालों को आशंका थी कि लड़के को कोई असाध्य बीमारी तो नहीं है। सुबह 3:00 बजे से लेकर 6:00 बजे तक दोनों पक्षों में खूब बकझक हुई।
- अंत में लड़के पक्ष के लोग बिना शादी ही जाने लगे। इसके बाद कुछ लड़की पक्ष वालों ने कहा कि लड़की की बदनामी होगी। इस कारण शादी होनी चाहिए।
- लड़का पक्ष ने कहा कि हमारा बहुत अपमान हुआ है। यह शादी अब नहीं होगी। बारात जब बिना शादी जाने लगी तो कुछ ग्रामीण दूल्हे की गाड़ी के आगे मोटरसाइकिल खड़ा करके आगे बढ़ने से रोक दिया।

मामा के घर में हो रही थी लड़की की शादी

- लड़की पल्लवी कुंभकार के पिता लखी कुंभकार बंगाल के रहने वाले हैं। शादी बड़बिल स्थित लड़की के मामा के घर से हो रही थी।
- लड़की के दादा विजय भकत अपनी नतिनी की शादी की पूरी तैयारी की थी।

दूल्हे ने कहा - अंगुली कटी है, यह कोई बीमारी नहीं

- अमित ने बताया कि अंगुली कटी हुई है। यह कोई बीमारी नहीं है। हादसे में मशीन से अंगुली कट गई थी।

- तीन माह पहले लड़का व लड़की को देख कर ही दोनों परिवारों ने शादी तय की थी। दो सप्ताह पहले ही तिलक की रस्म पूरी हुई थी।

दोनों पक्षों को समझाते गांव के धीरेंन चौधरी व अन्य। दोनों पक्षों को समझाते गांव के धीरेंन चौधरी व अन्य।
लड़का गाड़ी में बैठे हुए। लड़का गाड़ी में बैठे हुए।
बारात के साथ आई हुई गाड़ियां। बारात के साथ आई हुई गाड़ियां।
Click to listen..