--Advertisement--

बच्चों को मां ने सड़क पर छोड़ा, राहगीरों ने कपड़े दिए, थाने में महिला पुलिस ने संभाला

लोगों ने मां के बारे में पूछा तो साढ़े तीन साल की मासूम ने तोतली आवाज में कहा- मां छोड़... और रोने लगी।

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 08:05 AM IST
मासूमों की मुंशी मां। मासूमों की मुंशी मां।

रांची. मां की ममता अपने बच्चों के लिए ऐसी होती है कि जान तक दे देती है। लेकिन, मंगलवार शाम 4 बजे एक मां अपने दो मासूमों को किशोरी सिंह यादव चौक के पास सड़क पर छोड़कर चली गई। मां के जाने के बाद बहन और भाई दो घंटे तक बैठे रहे और फिर मां को पुकारते हुए रोने लगे तो राहगीरों की ममता जागी। शाम ढल चुका था बच्चे ठंड से कांप भी रहे थे। लोगों ने मां के बारे में पूछा तो साढ़े तीन साल की मासूम ने तोतली आवाज में कहा- मां छोड़... और रोने लगी। उसकी गोद में 1 साल का उसका भाई भी था। लोगों ने गर्म कपड़े खरीद कर पहनाएं।

आखिरकार मां मिल गई और थाने ले आई

इस बात की सूचना कोतवाली पुलिस को सूचना दी। पुलिस आई और बच्चों को थाने ले गई। थाने में दोनों भूखे बच्चों को मुंशी रेखा ने बोतल से दूध पिलाई। पुलिस मां को ढ़ूढ़ने निकल गई। पुलिस हर किसी को बच्ची की कहानी बताई। परिणाम हुआ कि मां मिल गई और थाने ले आई।

नीतू तुपुदाना में रहती है। पति राजेश झा से बहस हो गई। वह अकेले बेटे को टीका दिलवाने निकली और गुस्से में चौक पर छोड़ दी। जब बच्चे की जुदाई बर्दाश्त नहीं हुई तो लौटी आई। नीतू तुपुदाना में रहती है। पति राजेश झा से बहस हो गई। वह अकेले बेटे को टीका दिलवाने निकली और गुस्से में चौक पर छोड़ दी। जब बच्चे की जुदाई बर्दाश्त नहीं हुई तो लौटी आई।