--Advertisement--

सीएम रघुवर दास बोले, पिछड़ों को जनसंख्या के आधार पर मिलेगा रिजर्वेशन

उन्होंने कोल-तेली को भी एसटी में शामिल करने के लिए ट्राइबल रिसर्च इंस्टीट्यूट से 15 दिन में रिपोर्ट मांगी है।

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 07:31 AM IST
मुख्यमंत्री रघुवर दास।      -फाइ मुख्यमंत्री रघुवर दास। -फाइ

रांची. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि जिन जिलों की वैकेंसी में पिछड़ों का आरक्षण शून्य है, वहां सरकार जनसंख्या के आधार पर उन्हें आरक्षण दिलाने की दिशा में काम कर रही है। पांचवीं अनुसूची के अंतर्गत आने वाले कोल्हान, संथाल परगना के अलावा खूंटी, लोहरदगा, गुमला आदि जिलों की वैकेंसी में पिछड़ों का आरक्षण शून्य है। जिला रोस्टर और प्रदेश रोस्टर में इन्हें आरक्षण का लाभ मिल सकेगा। मुख्यमंत्री रविवार को झारखंड प्रदेश तेली समाज द्वारा हरमू मैदान में आयोजित तेली जतरा सह सामूहिक विवाह समारोह में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि कोल-तेली और अनुसूचित जनजाति के रहन-सहन में अंतर नहीं है। इसलिए उन्होंने कोल-तेली को भी एसटी में शामिल करने के लिए ट्राइबल रिसर्च इंस्टीट्यूट से 15 दिन में रिपोर्ट मांगी है। रिपोर्ट आते ही केंद्र से कोल-तेली को एसटी में शामिल करने की अनुशंसा करेंगे।