रांची

--Advertisement--

हिन्दू नववर्ष का झंडा हाईवोल्ट तार से सटा, 7 स्वयंसेवक झुलसे, एक की मौत

विपुल संघ के कार्यकर्ता थे और अरगोड़ा चौक पर उनकी सब्जी की दुकान थी।

Dainik Bhaskar

Mar 14, 2018, 02:15 AM IST
हादसे के बाद लोहे के पाइप में करंट नहीं था। लेकिन आस-पास के लोग उससे दूर रहने की हिदायत दे रहे थे। हादसे के बाद लोहे के पाइप में करंट नहीं था। लेकिन आस-पास के लोग उससे दूर रहने की हिदायत दे रहे थे।

रांची. अरगोड़ा चौक पर मंगलवार रात 8.45 बजे हिंदू नव वर्ष कार्यक्रम को लेकर आरएसएस का भगवा झंड़ा लगा रहे सात युवक 11 हजार वोल्ट बिजली की तार की चपेट में आ गए। जिसमें एक की मौत हो गई और अन्य घायल हो गए। गंभीर रूप से चार घायलों को पहले सेवा सदन में भर्ती कराया गया। महादेव नगर अरगोड़ा निवासी विपुल की इलाज के दौरान मौत हो गई।

मुख्यमंत्री ने दिया निर्देश

-मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इस घटना पर दुख जताया है और जिला प्रशासन को घायलों के बेहतर इलाज का निर्देश दिया है। उन्होंने राज्य के सभी जिला के प्रशासन को निर्देश दिया है कि जुलूस निकालने के दौरान विशेष सतर्कता और एहतियात बरती जाए। इसके लिए महावीर मंडलों के साथ समन्वय स्थापित किया जाए।

तीनों घायलों को हॉस्पिटल में कराया एडमिट

-विपुल संघ के कार्यकर्ता थे और अरगोड़ा चौक पर उनकी सब्जी की दुकान थी। उनके पिता जामताड़ा जिले में जिला पुलिस में कांस्टेबल के पद पर पदस्थापित हैं। तीन गंभीर रूप से घायल युवकों राजा, अभिषेक और सूरज पांडेय को सेवा सदन में प्राथमिक इलाज के बाद देवकमल अस्पातल में भर्ती कराया गया है। जबकि दो अन्य घायलों शौर्य और चंदन को अरगोड़ा चौक के पास स्थित ओम नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया।

-घटना के संबंध में स्थानीय युवकों ने बताया कि अरगोड़ा चौक पर गोलंबर के बीच में झंडा लगाने के लिए सभी जुटे थे। लोहे की पाइप में झंडा लगाकर सभी युवक उसे बीच में खड़ा ही कर रहे थे कि ऊपर किसी का ध्यान ही नहीं गया और पाइप 11 हजार वोल्ट तार से टकरा गया। इसके बाद जोर का धमाका हुआ और झंडा लगा रहे सभी युवक वहीं गिर गए। बिजली की तार की चपेट में आने से चार बुरी तरह से जल गए। घटना के बाद अरगोड़ा चौक पर अफरातफरी मच गई।

-वहां खड़ी पीसीआर ने तुरंत अरगोड़ा थाना को सूचना दी और एंबुलेंस से सभी घायलों को सेवा सदन लगाया गया।

आंखों देखी : पाइप एक ओर झुका... तार से टकराया, लड़कों के कपड़े जल गए, जिससे धुआं उठ रहा था, हम उन्हें लेकर अस्पताल भागे

-घटना के चश्मदीद चालक हवलदार गोपाल पांडेय ने बताया कि वे एएसआई विजय उरांव के साथ पीसीआर 5 से चापू टोली इलाके में पेट्रोलिंग कर रहे थे। रात 9.30 बजे अरगोड़ा चौक पहुंचे, तो देखा 6-7 लड़के चौक पर लोहे के पाइप के सहारे भगवा झंडा लगा रहे हैं।

-पाइप एक ओर झुका और बिजली के तार से टकराया। जोर की आवाज से साथ लाइट चमकी। पाइप में करंट आया, जिसे पकड़े लड़के इधर-उधर फेंका गए। उनके कपड़े जल गए, जिससे धुआं उठ रहा था।

-पहले उन्होंने लाइट कटवाने की सोची, फिर देखा कि पाइप नीचे गिर चुका है, जिसमें अब करंट नहीं है। तब तक वहां 40-50 लोग जमा हो गए। उनकी मदद से सभी घायलों को उठाया, पीसीआर में लेकर सेवासदन की ओर भागे।

-घायल लड़के जलन के दर्द से कराह रहे थे, लेकिन तब तक वे ठीक थे। घायलों में से ही एक ने उन्हें बताया कि हरमू रोड में एक कट से मुड जाएं, तो शार्टकर्ट रास्ते से सेवासदन पहुंच सकते हैं।

-उसी रास्ते पर उन्होंने गाड़ी मोड़ दी और अस्पताल पहुंचे, जहां एक की मौत हो गई। मृतक विपुल कुमार महर्षि अरविंद प्रभात शाखा के मुख्य शिक्षक थे।

हवलदार गोपाल पांडेय। हवलदार गोपाल पांडेय।
X
हादसे के बाद लोहे के पाइप में करंट नहीं था। लेकिन आस-पास के लोग उससे दूर रहने की हिदायत दे रहे थे।हादसे के बाद लोहे के पाइप में करंट नहीं था। लेकिन आस-पास के लोग उससे दूर रहने की हिदायत दे रहे थे।
हवलदार गोपाल पांडेय।हवलदार गोपाल पांडेय।
Click to listen..