--Advertisement--

चारा घोटाले में राजबाला का नाम, विपक्षी दलों और अपने ही मंत्री ने सरकार को घेरा

रिटायरमेंट से पहले सरकार से राजबाला वर्मा पर कार्रवाई करने की मांग।

Danik Bhaskar | Dec 31, 2017, 08:41 AM IST
30 दिसंबर को प्रकाशित खबर। इसमे 30 दिसंबर को प्रकाशित खबर। इसमे

रांची. चारा घोटाले में सीबीआई द्वारा मुख्य सचिव राजबाला वर्मा को भी जिम्मेदार ठहराने के बाद तीनों प्रमुख विपक्षी दलों और अपने ही मंत्री ने सरकार को घेरा है। संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय ने कहा कि कानून से ऊपर कोई नहीं है। रिटायरमेंट से पहले सरकार राजबाला वर्मा पर कार्रवाई करे। वहीं झामुमो और झाविमो ने उन्हें तत्काल हटाने और कांग्रेस ने कार्रवाई करने की मांग की है। सरयू राय ने इस संबंध में मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखी है। इसमें कहा है कि कानून का उल्लंघन करने वाला समुचित दंड का भागी होता है। चाहे वह कितना भी शक्तिशाली और प्रभावशाली पद पर क्यों न हो। सरकार इस मामले में कानून सम्मत कार्रवाई का आदेश दे। वरना सरकार की छवि पर असर पड़ेगा। उन्होंने सवाल उठाया है कि 30 रिमाइंडर भेजने के बाद भी राजबाला वर्मा ने जवाब क्यों नहीं दिया।


प्रतीक्षा करने के बदले किसी सक्षम प्राधिकार ने मुख्य सचिव पर कार्रवाई क्यों नहीं की। इसके लिए अफसरों की जवाबदेही भी सुनिश्चित करनी चाहिए। नहीं तो सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़ा होगा। विडंबना है कि आरोपी आईएएस अधिकारी झारखंड की मुख्य सचिव हैं। फरवरी में रिटायर होने वाली है। चारा घोटाले जैसे मामले में राज्य के शीर्ष प्रशासनिक अधिकारी के ऐसे आचरण से गलत संदेश जाएगा।

झामुमो : राजबाला वर्मा को तत्काल हटाएं

- झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने राजबाला वर्मा को मुख्य सचिव पद से तत्काल हटाने की मांग की है। उन्होंने कहा-हमें इंतजार है कि सुचिता व भ्रष्टाचार मामले में जीरो टाॅलरेंस की बात करने वाली सरकार अब क्या करती है। झामुमो के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने भी राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को पत्र लिख है।

- कहा है कि चाईबासा ट्रेजरी से अवैध निकासी मामले में दोषी पाए जाने पर पूर्व मुख्य सचिव सजल चक्रवर्ती को सजा हुई। कोयला घोटाले में भी पूर्व मुख्य सचिव एके बसु को सजा हुई। लेकिन बार-बार रिमाइंडर के बावजूद जवाब न देने वाली राजबाला वर्मा पर विभागीय कार्यवाही शुरू नहीं हुई। राज्यपाल सरकार को कार्यवाही शुरू करने का आदेश दें।

झाविमो : राष्ट्रपति से शिकायत करेगी पार्टी

- झाविमो के केंद्रीय महासचिव प्रदीप यादव ने राजबाला वर्मा को तत्काल हटाने और विभागीय कार्यवाही चलाने की मांग की। उन्होंने कहा-झाविमो राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और राज्यपाल से शिकायत करेगा। बजट सत्र में सदन में भी आवाज उठाएगा।

- सीबीआई द्वारा राजबाला वर्मा पर लगाए गए आरोप काफी गंभीर हैं। जिस व्यक्ति पर मिस कंडक्ट और लापरवाही जैसे आरोप लगते रहे, उसे मुख्य सचिव पद पर प्रोन्नति दी गई। गलत व्यक्ति को गलत पद पर बैठाया गया, ताकि गलत कामों को अंजाम दिलाया जा सके। जब मुख्य सचिव पर भ्रष्टाचार छुपाने और नियमों से खिलवाड़ करने का आरोप है तो जूनियर अफसरों से नियमों के पालन की उम्मीद कैसे की जा सकती है।

कांग्रेस : सरकार की छवि बिगड़ी

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने कहा कि सरकार इस मामले में तत्काल कार्रवाई करे। ऐसे मामलों में कार्रवाई न होने से राज्य सरकार की छवि खराब हुई है। राजबाला वर्मा पर लंबे समय से कई आरोप लग रहे हैं। उनके खिलाफ शिकायतें हो रही हैं। पर कार्रवाई नहीं हो रही। राजबाला वर्मा को सेवा विस्तार देने की भी चर्चा है। ऐसा हुआ तो यह काफी गलत होगा।