--Advertisement--

स्पेशल ट्रेन लेकर परिवार संग पिकनिक मनाने गए डीआरएम, कहा इंस्पेक्शन पर हूं

रांची रेल मंडल के डीआरएम विजय कुमार गुप्ता और एडीआरएम विजय कुमार शनिवार को स्पेशल ट्रेन लेकर इंस्पेक्शन करने गए।

Danik Bhaskar | Dec 03, 2017, 04:35 AM IST

रांची। रांची रेल मंडल के डीआरएम विजय कुमार गुप्ता और एडीआरएम विजय कुमार शनिवार को स्पेशल ट्रेन लेकर बड़कीचापी-टोरी रेल लाइन का इंस्पेक्शन करने गए। वह भी परिवार के साथ। इन्होंने इस लाइन पर राज्य के सबसे बड़े 27 नंबर पुल का निरीक्षण किया। और फिर पिकनिक मनाने में जुट गए। करीब ढाई घंटे तक खाने-पीने और घूमने के बाद शाम करीब पांच बजे रांची स्टेशन लौटे।

इंस्पेक्शन करने निकले थे दो अफसर

- ये दोनों अधिकारी सुबह 10:30 बजे अपने ब्रांच अफसरों के साथ रांची रेलवे स्टेशन से गुड्स लाइट (स्पेशल ट्रेन) से बड़कीचापी-टोरी रेल लाइन के इंस्पेक्शन करने निकले। अरगाेड़ा स्टेशन पर इनकी ट्रेन रुकी। वहां डीआरएम और एडीआरएम के परिवार के लोग ट्रेन में सवार हुए।

- दोपहर करीब 12 बजे बड़कीचापी पहुंचे। वहां से कुछ दूरी पर स्थित पुल का निरीक्षण किया और मुगलदाहा नदी के किनारे पिकनिक मनाने चले गए। वहां टेंट-तंबू, कुर्सी-टेबल का पहले से इंतजाम था। कैटरर खाना सजा चुके थे। सुरक्षा में जिला और रेल पुलिस के जवान तैनात थे। अधिकारियों ने परिवार के साथ भोजन किया। वादियों में घूमे। डीआरएम ने पत्नी के साथ फोटो भी खिंचवाया।
- बाद में बड़कीचापी में पत्रकारों से बातचीत में डीआरएम ने कहा कि 27 नंबर पुल पर्यटन के क्षेत्र में प्रचलित हो गया है। पुल और इसके ऊपर से गुजरने वाली ट्रेन को देखने के लिए रोजाना सैकड़ों पर्यटक रहे हैं। इसे देखते हुए रेल प्रशासन अब इस पुल से गुजरते वक्त ट्रेनों की स्पीड कम करेगा।


12 किमी बैक चली ट्रेन
- रांची से टोरी सिंगल लाइन है। यहां स्टेशन पर ही इंजन को घुमाने की व्यवस्था है। चूंकि पिकनिक स्पॉट मुगलदाहा नदी के पास से इंजन को नहीं घुमाया जा सकता था, इसलिए बड़कीचापी में ही ट्रेन के इंजन को घुमाया गया। यहां से नदी तक छह किलोमीटर तक ट्रेन बैक में ही चली।

- अधिकारियों को नदी के पास छोड़ा। ट्रेन वापस बड़कीचापी लौट गई। करीब ढाई घंटे बाद ट्रेन फिर बैक में ही मुगलदाहा नदी के पास पहुंची। अधिकारी और उनके परिवार के लोग ट्रेन में सवार हुए। वहां से सीधे रांची स्टेशन गए।