--Advertisement--

चारा घोटाला: आरोपियों से भर गया कोर्ट कैम्पस-पार्किंग, लालू प्रसाद समेत कई पेश

कोर्ट के आदेश पर मंगलवार को 114 आरोपी कोर्ट में हाजिरी लगाने पहुंचे तो पूरा कैंपस भर गया।

Danik Bhaskar | Jan 24, 2018, 08:10 AM IST
एक-दूसरे का हालचाल पूछा : सुबह 10 एक-दूसरे का हालचाल पूछा : सुबह 10

रांची. चारा घोटाला मामले में सबसे ज्यादा रकम की निकासी डोरंडा कोषागार से हुई थी। यह मामला (आरसी-47) वित्तीय वर्ष 1993-94 का है। 120 लोगों पर फर्जी आवंटन पत्र के आधार पर डोरंडा कोषागार से 139.37 करोड़ रुपए की अवैध निकासी का आरोप है। इसमें कई आरोपियों की मौत हो चुकी है। कोर्ट के आदेश पर मंगलवार को 114 आरोपी कोर्ट में हाजिरी लगाने पहुंचे। सुबह 10 बजे से आरोपियों का आना शुरू हो गया था। लगभग 12 बजे तक परिसर भर गया। 10 से 12 बजे के बीच कोर्ट में अन्य मामले की सुनवाई चल रही थी, कोर्ट के आदेश इंतजार में सभी आरोपी पार्किंग व बरामदा में बैठकर एक-दूसरे का हालचाल ले रहे थे।

लालू प्रसाद समेत अन्य हुए पेश
मामले में मंगलवार को सीबीआई के विशेष न्यायाधीश प्रदीप कुमार की अदालत में आरोपी लालू प्रसाद, जगदीश शर्मा, आरके राणा और महेश प्रसाद बेक जूलियस को भी पेश किया गया। वहीं जमानत पर बाहर रहे अन्य 114 आरोपी भी कोर्ट में सशरीर हाजिर हुए। पत्नी वीणा मिश्रा का निधन हो जाने से आरोपी डॉक्टर जगन्नाथ मिश्रा हाजिर नहीं हुए। हाजिर नहीं होने वाले अन्य आरोपियों में बीएन शर्मा, डॉ. कामेश्वर सहाय, बच्चन लाल और सजल चक्रवर्ती शामिल हैं, जिन्हें 7 फरवरी को हाजिर होने को कहा है।

डॉ. अरुण का बयान दर्ज

वहीं, सीबीआई के गवाह डॉ. अरुण सिन्हा का बयान भी दर्ज कराया गया, जिसमें कहा कि उस दौरान पलामू के जिला पशुपालन पदाधिकारी डॉ. कामेश्वर सहाय और चलंत पशुपालन पदाधिकारी डॉ. प्रभात सिन्हा ने 15000 क्विंटल मकई और 10000 क्विंटल मूंगफली की खल्ली की चैनपुर प्रखंड को आपूर्ति के एवज में दबाव बना कर प्राप्ति रसीद ले लिया था, लेकिन सामान की आपूर्ति नहीं की गई।

चाईबासा मामले में आज फैसला

चाईबासा कोषागार से वर्ष 1992 93 की अवधि में 67 फर्जी आवंटन पत्र के आधार पर 33 करोड़ 67 लाख की सरकारी राशि की अवैध निकासी के मामले में बुधवार को फैसला सुनाया जाएगा इस मामले की सुनवाई सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एस एस प्रसाद की अदालत में पिछले 10 जनवरी को ही पूरी कर ली गई है मामले से जुड़े सभी 56 आरोपियों को कोर्ट ने 24 जनवरी के दिन अदालत में हाजिर रहने को कहा है।

इधर, हाईकोर्ट में अपील पर सुनवाई दो को

चारा घोटाले में सजायाफ्ता बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद की अपील याचिका पर अब दो फरवरी को सुनवाई होगी। याचिका पर आंशिक सुनवाई कर जस्टिस अपरेश कुमार की अदालत ने मामले की अगली सुनवाई की तिथि सुनिश्चित की। लालू प्रसाद ने चारा घोटाले के देवघर कोषागार से गलत तरीके से निकासी के मामले में मिली सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील दाखिल की है।