--Advertisement--

जेल से इलाज कराने भेजे पूर्व मंत्री 7 घंटे रहे लापता, कहा- साथी के यहां गया था टॉयलेट करने

सुरक्षा में लगाए गए उनके साथ चले गए छह पुलिसकर्मियों को एसएसपी ने किया सस्पेंड।

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 07:32 AM IST
खोजबीन शुरू हुई तो शाम 4 बजे अस्पताल लौटे समरेश, कहा- लाचार हूं, उठ-बैठ नहीं सकता, अस्पताल में नहीं है कमोड, साथी के यहां चला गया था शौच करने खोजबीन शुरू हुई तो शाम 4 बजे अस्पताल लौटे समरेश, कहा- लाचार हूं, उठ-बैठ नहीं सकता, अस्पताल में नहीं है कमोड, साथी के यहां चला गया था शौच करने

धनबाद. पूर्व मंत्री समरेश सिंह पीएमसीएच से मंगलवार को सात घंटे लापता रहे। उन्हें धनबाद जेल से इलाज के लिए पीएमसीएच की सर्जिकल आईसीयू में भर्ती कराया गया था। सुबह 9 बजे वे अस्पताल से कहीं चले गए। उनकी सुरक्षा में लगाए गए छह पुलिसकर्मी भी उनके साथ चले गए। वे कहां गए, किसके साथ गए, इसकी जानकारी न तो आईसीयू के कर्मचारियों को थी और न ही अस्पताल प्रबंधन को। उनके अस्पताल से गायब हो जाने की सूचना दैनिक भास्कर को भी मिली। भास्कर ने बताया, तब पुलिस हरकत में आई। समरेश की खोजबीन शुरू हुई। इस बीच पूरे शहर में तेजी से समरेश के अस्पताल से गायब होने की खबर फैल गई।

खुद से ही पुलिसकर्मियों के साथ अस्पताल लौटे

- पुलिस ने फोन पर समरेश की सुरक्षा में लगाए गए जवानों से संपर्क किया, तो उन्होंने भी भ्रामक जानकारी दी। वे जिला पुलिस को गुमराह करते रहे। सार्जेंट मेजर के नेतृत्व में पुलिस की टीम जब अस्पताल पहुंची, तो वहां न समरेश मिले और न ही कोई पुलिसकर्मी।

- पुलिस उनकी तलाश में हांफती रही, हालांकि शाम चार बजे समरेश खुद से ही पुलिसकर्मियों के साथ अस्पताल लौट आए। इसके बाद पुलिस ने राहत की सांस ली। एसएसपी मनोज रतन चोथे ने इसे सुरक्षा में लापरवाही का मामला मानते हुए समरेश की सुरक्षा में लगाए गए छह पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया।

प्रवक्ता ने कहा, पूर्व मंत्री को उपलब्ध करा दिया गया था कमोड स्टैंड

- शाम चार बजे लाल रंग की चमचमाती टीयूवी से समरेश सिंह अस्पताल के इमरजेंसी पहुंचे। उन्हें व्हीलचेयर से आईसीयू में उनके बेड तक पहुंचाया गया। वहां पहुंचकर उन्होंने कहा- लाचार हूं, खुद से उठ-बैठ नहीं सकता। ऊपर से पीएमसीएच के शौचालय में कमोड भी नहीं है, इसलिए शौच करने पास ही में रहनेवाले अपने पुराने साथी के कार्यालय में गया था।

- भास्कर को जानकारी मिली कि समरेश दिनभर भाजपा के पूर्व नेता राजकुमार सिंह के कोलाकुसमा स्थित कार्यालय में रहे। हालांकि, अस्पताल के प्रवक्ता डॉ विकास कुमार राणा ने बताया कि मरीज की स्थिति को देखते हुए उन्हें रात में ही कमोड स्टैंड उपलब्ध करा दिया गया था।

ये पुलिसकर्मी किए गए सस्पेंड
हवलदार राज मोहन साहू, कांस्टेबल राकेश कुमार, सुबोध रिख्यासन, रामकुमार राम, शशि भूषण त्रिपाठी और विजय कुमार को एसएसपी मनोज रतन चोथे ने सस्पेंड कर दिया। सार्जेंट मेजर ओमप्रकाश दास की रिपोर्ट के आधार पर एसएसपी ने कार्रवाई करते हुए सभी छह पुलिसकर्मियों से स्पष्टीकरण मांगा है।

ब्रेथलेसनेश की शिकायत के बाद लाया गया पीएमसीएच

- 1997 में सरकारी काम में बाधा डालने के केस में पूर्व मंत्री समरेश सिंह को सोमवार को जेल भेजा गया था। जेल जाने के कुछ ही घटों के बाद इलाज के लिए उन्हें पुलिस कस्टडी में पीएमसीएच में भर्ती कराया गया।

- अस्पताल के सर्जिकल आईसीयू में मौजूद बेड हेड टिकट के अनुसार उन्हें ब्रेथलेसनेश (दम फूलने व सांस लेने में परेशानी) की शिकायत है। अब सवाल यह उठता है कि सात घंटे अस्पताल से बाहर रहने के दौरान उन्हें कुछ हो जाता तो क्या होता? दूसरा प्रश्न यह है कि यदि उन्हें किसी तरह की परेशानी नहीं है तो फिर अस्पताल में भर्ती क्यों?

आईसीयू, समय : 1:00 बजे | इलाज के दौरान गायब होने की सूचना पर जब पुलिस पीएमसीएच पहुंची तो समरेश सिंह बेड पर नहीं थे। आईसीयू, समय : 1:00 बजे | इलाज के दौरान गायब होने की सूचना पर जब पुलिस पीएमसीएच पहुंची तो समरेश सिंह बेड पर नहीं थे।
आईसीयू, समय : 1:05 बजे | समरेश जब बेड पर नहीं मिले तो पुलिस ने वहां मौजूद नर्सों से बात की तो पता चला वे सुबह 9 बजे से ही गायब हैं। आईसीयू, समय : 1:05 बजे | समरेश जब बेड पर नहीं मिले तो पुलिस ने वहां मौजूद नर्सों से बात की तो पता चला वे सुबह 9 बजे से ही गायब हैं।
पीएमसीएच, समय : 4:00 बजे | पुलिस ने जब खोजबीन शुरू की तो पूर्व मंत्री लाल रंग की कार से समर्थकों के साथ पहुंच गए। पीएमसीएच, समय : 4:00 बजे | पुलिस ने जब खोजबीन शुरू की तो पूर्व मंत्री लाल रंग की कार से समर्थकों के साथ पहुंच गए।
पीएमसीएच, समय : 4:05 बजे | पीएमसीएच में समर्थकों ने पूर्व मंत्री को सहारा देकर गाड़ी से उतारा और वार्ड की ओर लेकर बढ़ गए। पीएमसीएच, समय : 4:05 बजे | पीएमसीएच में समर्थकों ने पूर्व मंत्री को सहारा देकर गाड़ी से उतारा और वार्ड की ओर लेकर बढ़ गए।