--Advertisement--

खुले में टॉयलेट के लिए जा रही थी 12 साल की बच्ची, कुत्तों ने नोंचकर मार डाला

यह वही पंचायत है, जहां से डीसी संजीव कुमार बेसरा ने टॉयलेट बनवाने की शुरुआत की थी।

Dainik Bhaskar

Jan 08, 2018, 05:52 AM IST
सिम्बॉलिक इमेज। सिम्बॉलिक इमेज।

कोडरमा(झारखंड). खुले में शौचमुक्त (ओडीएफ) घोषित हो चुके कोडरमा जिले के भगवतीडीह गांव में रविवार सुबह शौच के लिए जा रही 12 साल की बच्ची को कुत्तों ने नोंचकर मार डाला। भगवतीडीह गांव मरकच्चो दक्षिणी पंचायत में है। यह वही पंचायत है, जहां से डीसी संजीव कुमार बेसरा ने टॉयलेट बनवाने की शुरुआत की थी। डीसी खुद गड्‌ढा खोदो अभियान की शुरुआत करने पहुंचे थे।

शरीर के कई हिस्सों को नोंचकर भी खा गए

- चश्मदीदों के मुताबिक, उमेश सिंह की बेटी मधु कुमारी रविवार सुबह आठ बजे शौच के लिए खेत जा रही थी। रास्ते में करीब एक दर्जन आवारा कुत्तों ने घेरकर हमला कर दिया। शरीर के कई हिस्सों को नोंचकर खा गए। तभी क्रिकेट खेलने जा रहे बच्चों ने देखा। शोर मचाया तो ग्रामीण जमा हुए। कुत्तों को खदेड़ा, लेकिन तब तक मधु की मौत हो चुकी थी।

- जानकारी मिलते ही एसआई जफर सिद्दिकी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। घटना की जानकारी ली। मृतका की मां चमेली देवी ने बताया कि घर में टॉयलेट न होने के कारण बेटी खेत में जा रही थी।

- मां की शिकायत पर पुलिस ने कुत्तों के हमले से मौत की शिकायत दर्ज की है। घटना के बाद से मुखिया और पंचायत सेवक का मोबाइल स्विच ऑफ है।

घर में टॉयलेट होता तो बेटी की जान नहीं जाती

बीडीओ ज्ञानमणि एक्का ने बताया कि सर्वे की सूची के अनुसार टॉयलेट बनाया गया है। जल्दी ही फिर सर्वे कराया जाएगा। सभी घरों में टॉयलेट बनाया जाएगा। बच्ची के परिजनों का कहना है कि अगर घर में टॉयलेट होता तो बेटी की जान नहीं जाती।

सर्वे में नहीं था नाम

- कोडरमा जिले को पिछले साल 23 सितंबर को ओडीएफ घोषित किया गया था। मगर कई गांवों में टॉयलेट निर्माण की स्थिति बदतर है। कई जगह टॉयलेट ताे बनाए गए, लेकिन स्थिति काफी खराब है।

- जिस भगवतीडीह गांव में यह घटना घटी, वहां कुल 60 घर हैं। 200 आबादी है। यहां 40 घरों में टॉयलेट बने हैं। बच्ची के परिजन का नाम बेस लाइन सर्वे में न होने से उनके घर में टॉयलेट नहीं बनाया गया है। बीडीओ ने मरकच्चो दक्षिणी पंचायत और कादोडीह पंचायत के मुखिया को वित्तीय प्रभार से मुक्त करने की अनुशंसा डीसी को भेजी है।

ओडीएफ की हकीकत

कोडरमा जिला 23 सितंबर 2017 को ओडीएफ घोषित हुआ था

- भगवतीडीह गांव से ही टॉयलेट निर्माण की शुरुआत हुई थी

- गांव में कुल 60 घर हैं, आबादी है 200

- 60 घरों में से सिर्फ 40 घरों में टॉयलेट हैं

X
सिम्बॉलिक इमेज।सिम्बॉलिक इमेज।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..