Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Government Claim On Providing Jobs

1000 दिन में 57934 लोकल लोगों को नौकरी दी : राज्य सरकार का दावा

आयोग के माध्यम से दी गई नौकरी का आंकड़ा साल 2015 से 2017 तक का है।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 16, 2017, 06:23 AM IST

1000 दिन में 57934 लोकल लोगों को नौकरी दी : राज्य सरकार का दावा

रांची.राज्य सरकार ने दावा किया है कि पिछले तीन साल में राज्य में कुल 57934 लोगों को नौकरी दी गई। इनमें 32,147 अनुबंध पर रखे गए और झारखंड कर्मचारी आयोग के माध्यम से 25787 लोगों को नौकरी दी गई। अनुबंध पर रखे गए सभी लोग स्थानीय हैं जबकि आयोग से जिन लोगों को नौकरी मिली है, उनमें 95 फीसदी से ज्यादा लोग झारखंड के स्थानीय निवासी हैं।

- अनुबंध पर बहाल किए गए लोगों का आंकड़ा एक हजार दिनों का है जबकि आयोग के माध्यम से दी गई नौकरी का आंकड़ा साल 2015 से 2017 तक का है।

- आयोग के माध्यम से सबसे ज्यादा नौकरी शिक्षा के क्षेत्र में मिली। 16131 माध्यमिक और प्राथमिक स्कूली शिक्षकों की नियुक्ति की गई जबकि गृह , कारा और अापदा विभाग, जिसमें पुलिस निदेशालय आता है में 6460 लोगों की बहाली राज्य सरकार ने की है।

- तीसरे नंबर पर वन एवं पर्यावरण विभाग है जिसमें 2186 लोगों को तीन साल के भीतर नौकरी दी गई है। इसके अलावा उद्योग विभाग में 40, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग में 111, वाणिज्यकर विभाग में 36, परिवहन में तीन, कृषि में 10 लोगो को नौकरी मिली है।

इनकी अनुबंध पर नियुक्ति

- ग्रामीण विकास विभाग में 17113 पंचायत सेवक, 400 जूनियर इंजीनियर, 999 लेखा सहायक और 22 डीपीएम में रखे गए।
- महिला बाल विकास एवं सामाजिक सुरक्षा विभाग में 10386 पोषण सखी की नियुक्ति हुई।
- पेयजल एवं स्वच्छता विभाग में 522 लोगों को नौकरी दी।
- वाणिज्य कर विभाग में बाहय स्रोत से 48 लोगों को अनुबंध पर रखा।
- सूचना प्रौद्योगिकी विभाग में 332 नियुक्तियां की गईं।
- नगर विकास विभाग में 137 और खान उद्योग में 300 लोगोंं को अनुबंध पर रखा गया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ranchi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 1000 din mein 57934 lokl logon ko Naokari di : rajya srkar ka daavaa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×