Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Government Sighn Mou With Suspicious Company

मोमेंटम झारखंड से चंद दिन पहले बनी कंपनी, सरकार ने किया 1900 Cr का MOU

विधानसभा में सवाल के जवाब से उठे कई सवाल- एमओयू करने वाली कई कंपनियां संदिग्ध।

विकास सिंह | Last Modified - Dec 14, 2017, 07:49 AM IST

मोमेंटम झारखंड से चंद दिन पहले बनी कंपनी, सरकार ने किया 1900 Cr का MOU

धनबाद/दिल्ली.मोमेंटम झारखंड से चंद दिन पहले बनी कंपनी से झारखंड सरकार ने 1900 करोड़ का एमओयू किया है। दिल्ली बेस्ड कंपनी पार्सा एग्रो प्राइवेट लिमिटेड ने यह एमओयू फरवरी 2017 में किया था। तब इसकी कुल जमापूंजी थी एक लाख रुपए। तब उसने यह दावा भी किया था कि 400 लोगों को सीधे नौकरी भी देगा। हालांकि, इसकी आर्थिक हैसियत की पोल बुधवार को झारखंड विधानसभा में खुल गई। निरसा विधायक अरुप चटर्जी के अल्पसूचित प्रश्न पर राज्य सरकार ने माना कि कंपनी फरवरी में ही बनाई गई थी। तब उसकी कुल पूंजी सिर्फ एक लाख रु. थी। जवाब में मंत्री ने कहा कि उप-उद्योग निदेशक की रिपोर्ट के आधार पर कंपनी से कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग ने मोमेंटम झारखंड के तहत एमओयू किया। कंपनी ने 1900 करोड़ रु. के निवेश के साथ 400 प्रत्यक्ष रोजगार मुहैया कराने के करार पर हस्ताक्षर भी किया था। विधायक अरुप का दावा है कि यह कंपनी तो सिर्फ एक उदाहरण हैं। झारखंड सरकार ने ऐसी ही कई कंपनियों के साथ एमओयू कर जनता की आंखों में धूल झोंका है, जिनकी न तो कोई आर्थिक हैसियत है। न ही काम का कोई अनुभव।

उद्योग, खनन व भूतत्व विभाग से 6400 करोड़ रु. का करार करने वाली सिबिक्स हाउसिंग प्रा. न तो मिनिस्ट्री ऑफ कॉर्पोरेट अफेयर्स से रजिस्टर्ड है। न ही अपनी वेबसाइट है और न कोई एड्रेस। कंपनी का दावा है कि वह सिंगल व डबल ईपीएस पैनल से मल्टी लेयर पीसीबी बनाएगी। विधायक अरूप चटर्जी के कंपनी को लेकर उठाए सवाल पर सरकार का जवाब है- कंपनी के लेटर ऑफ इंटेंट में पता सरबजीत सिंह, डायरेक्टर, सिबिक्स हाउसिंग प्राइवेट लिमिटेड, 10 पार्लियामेंट स्ट्रीट, नई दिल्ली का दर्शाया है। यहां पर फाइनेंस डिपार्टमेंट, इनकम टैक्स विभाग के ऑफिस हैं।

एक लाख की पूंजीवाली तीन और कंपनियों पर सवाल-

पिता-पुत्र की कंपनी को 141 एकड़ जमीन देने की तैयारी

सरकार ने ओरिएंट क्राफ्ट फैशन पार्क वन एलएलपी के साथ भी 1500 करोड़ रु. का एमओयू किया है। भारत सरकार की मिनिस्ट्री ऑफ कॉर्पोरेट अफेयर्स की सूची में इस कंपनी की कुल जमापूंजी एक लाख रु. है। इसे 3 फरवरी 2017 को बनाया गया। इसने 14 मार्च को एमओयू किया। कंपनी के निदेशक सुधीर धींगरा और साहिल धींगरा पिता-पुत्र हैं। कंपनी को रांची स्थित खेलगांव में 28 एकड़ और इरबा में 113 एकड़ जमीन देने की तैयारी है।

1 लाख की पूंजी से 4 महीने पहले बनी कंपनी से भी करार

पंचकुला की कंपनी रिसाइकल्ड रिफ्यूज इंटरनेशनल लिमि. से भी सरकार ने एमओयू किया है। इसे भी मोमेंटम झारखंड से सिर्फ 4 महीने पहले बनाया गया था। इसकी जमापूंजी भी एक लाख रु. थी। शहरी विकास एवं आवास विभाग ने 7000 करोड़ का एमओयू किया है।

1-1 लाख पूंजी की 2 कंपनियों से 1300 करोड़ का एमओयू

सरकार ने दो अन्य ऐसी कंपनियों के साथ भी 1299 करोड़ का एमओयू किया है, जिनकी कुल पूंजी एक-एक लाख की है। कंपनियों की उम्र भी 10 माह से कम है। ये कंपनियां हैं- ऑफर्बाइज कांग्लोमिरेट और पीजेपी सिनेमाज।

पूंजी 1 करोड़ की, कर लिए 3800 करोड़ के 3 एमओयू

मोहम इन्फाेसोल्यूशन प्रा. लिमि. के साथ झारखंड के तीन विभागों ने 3800 करोड़ रु. के तीन एमओयू किए, जबकि इस कंपनी की कुल जमापूंजी एक करोड़ की है। पर्यटन, कला-संस्कृति, खेल व युवा मामलों के विभाग ने होटल व अंतरराष्ट्रीय स्तर के कन्वेंशन सेंटर बनाने के लिए 1051 करोड़, आईटी एंड ई-गवर्नेंस डाटा सेंटर प्रोजेक्ट बनाने के लिए 1800 करोड़ और स्वास्थ्य विभाग ने हॉस्पिटल प्रोजेक्ट के लिए 1000 करोड़ रु. के अलग-अलग करार किए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×