--Advertisement--

जान बचाने के लिए चढ़ गया छत पर, लोगों ने पीट-पीटकर कर दी हत्या

सरायकेला जिले के आदित्यपुर थाना क्षेत्र में एक शख्स की लोगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी।

Danik Bhaskar | Mar 03, 2018, 08:43 AM IST
रतन लोहार के शव को उठाते आदित् रतन लोहार के शव को उठाते आदित्

जमशेदपुर(झारखंड). हिंसक भीड़ ने आदित्यपुर के शातिर अपराधी रतन लोहार को होली के दिन शुक्रवार को पीट-पीटकर मार डाला। उसपर आदित्यपुर व आसपास थाने में कई केस हैं। वह मई 2012 से रेप की सजा काट रहा था। 2012 में राम मड़ैया बस्ती की एक विधवा के साथ रेप को लेकर बस्तीवासियों की गवाही के बाद उसे सजा हुई थी। करीब डेढ़ साल पहले वह पैरोल पर छूटा था। 2012 में लोगों ने उसके घर पर हमला भी किया था, तब आदित्यपुर पुलिस ने बचा लिया था। रतन को मामले में सजा हुई थी। जब वह जेल से छूटा तो बस्ती के लोगों ने उस पर प्रतिबंध लगाया था।

बस्ती में पत्नी और बेटे से मिलने आया था

दोपहर 3 बजे वह स्कॉर्पियो से तीन दोस्तों के साथ बस्ती में पत्नी और बेटे से मिलने आया था। कुछ युवकों ने रोका तो साथियों ने हथियार दिखाया। इससे लोगों का आक्रोश भड़क गया। करीब 150 बस्तीवासी लाठी-डंडा, तलवार, फरसा, पत्थर ले जमा हो गए। खदेड़ना शुरू किया। रतन ने पिस्टल निकालकर फायरिंग की, लेकिन उग्र भीड़ ने पीछा नहीं छोड़ा। जान बचाने के लिए वह झारखंड राज्य आवास बोर्ड के डब्ल्यू टाइप स्थित फ्लैट-8 के चार तल्ले की छत पर जा पहुंचा। लोग भी वहां पहुंचे और रतन को मार डाला। हालांकि उसके साथी भाग निकलने में कामयाब हो गए।

आरोपियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट

आदित्यपुर थाने में रतन के बेटे विपुल कर्मकार के बयान पर बस्ती के आठ पर नामजद और सैकड़ों अज्ञात पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। हत्या में शामिल राजेंद्र कर्मकार व शंकर मुंडा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अन्य नामजद लोगों में कलिया लोहार, छुटू मुंडा, टुन्न लोहार, बॉबी मिश्रा, भुकलु लोहार और राजेंद्र मिश्रा हैं। सभी फरार हैं। इधर, पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शनिवार को शव परिजनों को सौंप दिया। बीजेपी नेता गणेश महाली और जिला परिषद सदस्य शकुंतला महाली की मौजूदगी में शव का अंतिम संस्कार पार्वती घाट में किया गया।

वर्चस्व की लड़ाई में हुई थी दूसरी पत्नी की हत्या
रतन लोहार की दूसरी पत्नी मुन्नी, जिसकी हत्या आदित्यपुर थाना क्षेत्र स्थित मुस्लिम बस्ती में दिनदहाड़े गोली मारकर कर की गई थी। रतन लोहार के जेल जाने के बाद उस वक्त कोयले का अवैध कारोबार मुन्नी चला रही थी।

फोटो: संजीव कुमार मेहता।