--Advertisement--

नगर विकास मंत्री बाेले- हम इलेक्टेड हैं, अफसर सेलेक्टेड... पर वे सुनते नहीं

दैनिक भास्कर ऑफिस में नगर विकास मंत्री सीपी सिंह के इंटरव्यू की तीन बड़ी बातें

Dainik Bhaskar

Dec 22, 2017, 08:42 AM IST
दैनिक भास्कर ऑफिस में नगर विका दैनिक भास्कर ऑफिस में नगर विका

रांची. नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने रांची सहित राज्यभर में लागू किए गए पॉर्किंग पॉलिसी और ट्रांसपोर्ट नगर पर बड़ी बातें कही हैं। उन्होंने पॉर्किंग पॉलिसी को भविष्य की जरूरत और सबसे उत्तम पॉलिसी बताई, लेकिन साफ कहा कि जनता की सुविधा सर्वोपरि है। जनता को पॉर्किंग पॉलिसी से कोई परेशानी होगी तो इसकी समीक्षा कर संशोधन होगा। उन्होंने कहा कि पंडरा में ट्रांसपोर्ट नगर बनाने के बजाए दूसरे स्थान पर बनाने का सुझाव सीएम को देने और अवैध रूप से बने घरों के नियमितिकरण के लिए जल्द ही पॉलिसी तैयार की जाएगी। दैनिक भास्कर के वरीय संवाददाता संतोष चौधरी से बात करते हुए उन्होंने सरकार की वर्तमान और भविष्य की प्लानिंग पर खुलकर बात की।

पंडरा में ट्रांसपोर्ट नगर पर जो कहना था, मैंने अपने ‘बॉस’ को कह दिया है

पंडरा में ट्रांसपोर्ट नगर बसाने के सरकार के फैसले से मैं संतुष्ट नहीं हूं। सर्वसम्मति से लिया गया फैसला सबके हित में होता है। शहर के फैलाव की जरूरत है। सबकुछ निगम क्षेत्र में होगा तो भविष्य में समस्या बढ़ेगी। पंडरा में ट्रांसपोर्ट नगर का व्यवसायी विरोध कर रहे हैं। उनका विरोध जायज भी है। राज्य के मुखिया को इससे अवगत करा दिया गया है। नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव को भी कहा गया है कि ट्रांसपोर्ट नगर के लिए दूसरा स्थान देखें। मैने भी उन्हें कुछ स्थानों का विकल्प दिया है। उस पर काम चल रहा है। लेकिन अंतिम निर्णय मुखिया को ही लेना है। वे हमारे बॉस हैं, इसलिए उनके निर्णय को बाइपास नहीं किया जा सकता है। सरवल में ट्रांसपोर्ट नगर के लिए जमीन अधिग्रहण में बाधा खड़ी हो रही है। वहां के लोगों से बातचीत करने और रिंग रोड के बाहर एक अन्य स्थान पर ट्रांसपोर्ट नगर बनाने का सुझाव दिया गया है।

हम इलेक्टेड हैं, अफसर सेलेक्टेड... पर वे सुनते नहीं
शहर में एक लाख से अधिक घर बिना नक्शे के बने हैं। इसका फायदा अफसर उठाते हैं। जीवनभर की कमाई जोड़कर लोग घर बनाते हैं, उसे भी समय-समय पर अवैध बताते हुए नोटिस भेजा जाता है। इससे लोग डरते हैं। इसलिए जो घर अवैध हैं उनका नियमितिकरण होगा ही। राज्य गठन के समय से मैं इस मुद्दे को उठा रहा हूं, लेकिन कोई फैसला नहीं हुआ। अब मुझे ही अवैध घर को वैध कराना है। विभाग के अधिकारियों को कई बार इस दिशा में ठोस कार्रवाई करने के लिए कहा हम इलेक्टेड हैं, अफसर सेलेक्टेड, लेकिन वे सुनते नहीं। मंत्री भी कई बार मजबूर होता है। क्योंकि मुझे जनता के सवालों का जवाब देना है। अधिकारियों से तो जनता सवाल नहीं करती, इसलिए उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। फिर भी हिम्मत नहीं हारा हूं।

इंस्पेक्टर राज नहीं चलने देंगे
शहरी आबादी और गाड़ियों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ रही है। जहां लोगों को पैदल चलना चाहिए वहां पार्किंग हो रही है। अपनी गाड़ी लेकर निकलने वालों को निर्धारित स्थल पर ही पार्किंग करना होगा। जहां-तहां गाड़ी न लगे, इसलिए यातायात प्रबंधन विनियमावली बनाई गई है। जनता की जरूरत और समस्याओं को दूर करना सरकार का दायित्व है। पार्किंग पॉलिसी को लागू होने में कुछ समय लगेगा, क्योंकि निकाय स्तर पर बनी कमेटी इसे लागू करेगी। इसके बाद भी लोगों को दिक्कत होगी तो जरूरी संशोधन जरूर होंगे। सीपी सिंह के रहते इंस्पेक्टर राज नहीं चलेगा।

शहर के सीवरेज-ड्रेनेज मामले पर सवालों के जवाब दिए।

Q. सीवरेज-ड्रेनेज बनने से शहर के 9 वार्डों में हर ओर गड्ढ़ा और धूल परेशानी का सबब बन गया है, फिर भी आप चुप बैठे हैं?
- मैं चुप नहीं हूं। निगम से मांगा है कि किस-किस सड़क में सीवर लाइन बिछ गई है। कहां काम चल रहा है। अधिकारियों ने बताया था कि सितंबर तक खोदी गई सड़कें सुव्यवस्थित हो जाएगी, लेकिन अभी तक काम नहीं पूरा हुआ। हर दिन लोगों की शिकायत आ रही है। जल्द ही मोहल्लों का निरीक्षण कर स्थिति देखेंगे। जहां की सड़कें ठेकेदार ने नहीं बनाई है वहां निगम सड़क बनाएगा, ताकि लोगों को गड्ढ़ा व धूल से निजात मिले।


Q. सवाल- नगर विकास विभाग सबसे अधिक इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट की योजनाओं पर काम कर रहा, लेकिन प्लानिंग का अभाव क्यों है?
-विभाग में काफी काम करना है। अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक की कमी है। सही प्लानर और इंजीनियर नहीं होने से ऐसी परेशानी हो रही है। इसे दूर करने का प्रयास हो रहा है। नगर निकायों में 1257 पद सृजित किया गया है। जेपीएससी और जेएसएसी को अनुशंसा भेजी है। नियुक्ति में समय लग रहा है, इसलिए सिटी मैनेजर बहाल करके काम कराया जा रहा है।


Q. सवाल- आपको गरीबों का नेता माना जाता है, फिर भी फुटपाथ व ठेला-खोमचा वालों पर सबसे अधिक जुल्म आपके मंत्री बनने के बाद क्यों?
- जब मैं विधायक था तब भी फुटपाथ दुकानदार और ठेला-खोमचा वालों की आवाज उठाता था, आज भी उठाता हूं। आगे भी उठाता रहूंगा। लेकिन जो गलत कर रहा उसका साथ नहीं दूंगा। फुटपाथ दुकानदारों को बार-बार समझाया कि रोड से हट कर दीवार के किनारे दुकान लगाएं, ताकि ट्रैफिक जाम न हो। अब वे समझने लगे हैं। लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों को इससे कोई मतलब नहीं है। समस्या को सुलझाने के बजाय उलझाने में लगे रहते हैं। ऐसे अफसरों को भी चिन्हित किया जा रहा है।

X
दैनिक भास्कर ऑफिस में नगर विकादैनिक भास्कर ऑफिस में नगर विका
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..