रांची

--Advertisement--

प्रेमी की हत्या के मामले की गवाह थी ये लड़की, मौत के बाद पीछे छोड़ गई कई सवाल

लड़की कोर्ट में बताने तैयार थी कि उसके प्रेमी को कौन लोग अपने साथ ले गए थे।

Danik Bhaskar

Jan 10, 2018, 05:33 AM IST

धनबाद(झारखंड). 19 नवंबर 2017 को योगेश नाम के लड़के की लाश रेलवे पटरी पर मिली थी। उसके 51 दिन बाद उसकी प्रेमिका की जली हुई लाश उसके ही मामा घर में रहस्यमय हालत में जली हुई मिली। योगेश के पिता ने लड़की की मौत को साजिश करार दिया है। उनका कहना है कि बेटे की हत्या में लड़की मुख्य गवाह थी। वह कोर्ट में यह बात बताने को तैयार थी कि उसके प्रेमी योगेश को कौन लोग अपने साथ ले गए थे। मामले में गवाही से रोकने उसकी हत्या कर दी गई।

घर के बगल में रहने वाले योगेश के साथ भाग गई थी खुशबू
- 16 नवंबर 2017 को पुटकी की खुशबू अपने पड़ोस के योगेश कुमार के साथ भागी और 19 नवंबर को योगेश की लाश दुग्धा में रेलवे पटरी पर मिली। 9 जनवरी 2018 को खुशबू की जली हुई लाश मामा के घर में मिली।

पहले प्रेमी और अब प्रेमिका की हुई संदिग्ध मौत ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं।

- पुलिस को दिए गए बयान मे खूशबू की मां फूल देवी ने कहा है कि 16 नवंबर को घर के बगल में रहने वाले योगेश के साथ खुशबू भाग गई थी। तीन दिन बाद खुशबू चंद्रपुरा स्टेशन पर उनके रिश्ते के भाई लाल महतो को मिली।

- उसी दिन योगेश की लाश चंद्रपुरा और दुग्धा रेलवे स्टेशन के बीच रेलवे पटरी पर मिली थी। इस घटना के बाद खुशबू को लेकर वे मायके (भूली बस्ती पिपरा टोला) चली आई।

- सोमवार की रात 9:30 बजे सभी ने खाना खाया। 11 बजे के बाद सभी सोने चले गए। सुबह करीब 5 बजे उनकी चाची नीलम देवी रसोईघर मे माचिस लाने गई तो देखा कि दरवाजा अंदर से बंद है और कुछ जलने की बू आ रही है। किचन के अंदर देखा तो पाया कि उनकी बेटी खुशबू खुद पर केरोसीन डालकर खुदकुशी कर चुकी थी।

- घटना की जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने लाश को अपने कब्जे में लेकर उसे पोस्टमाॅर्टम के लिए भेज दिया।

मौत के बाद खूशबू पीछे छोड़ गई कई सवाल

1. पेट में नहीं था अनाज का दाना
मां की माने तो खुशबू सहित पूरे परिवार ने रात 9:30 बजे खाना खाया था, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट बताती है कि खुशबू ने कुछ नहीं खाया था। वह भूखी थी। उसके पेट में अनाज का एक भी दाना नहीं था।

2. किचन में सभी सामान तरतीब से रखा था
पुलिस का कहना है कि अगर किचन में आग लगाई होती तो लड़की के इधर-उधर भागने से किचन का सामान बिखरा जाता, लेकिन किचन में ऐसा कुछ नहीं था। किसी के शरीर में आग लगी हो और वह स्थिर रहे... यह मुमकिन नहीं है।


3. न धुंआ उठा, न कोई सामान जला
किचन में आग लगाई, लेकिन न कोई सामान जला और न ही धुंआ उठा। यह कैसे मुमकिन होगा? किचन में पुलिस को कई भी सामान जला हुआ नहीं मिला। न ही किचन की किसी दीवार पर धुंआ मिला।


4. किसी ने चीख क्यों नहीं सुनी
कोई जल रहा हो और चीखे नही यह भी मुमकिन नहीं है। अगर किचन में खुशबू आग लगाती तो उसकी चीख घरवाले और आसपास के लोग जरूर सुनते, लेकिन यहां ऐसा नहीं हुआ।

पुलिस के सवाल पर परिजनों की जुबान लड़खड़ा गई

- घरवालों ने पुलिस को बताया कि खुशबू अपने प्रेमी योगेश की मौत के बाद गुमसुम रहती थी। उसने सोमवार की रात किचन में आग लगाकर जान दे दी। परिवार वालों के इस बयान को घटनास्थल (किचन घर) का सीन सच मानने से इंकार कर रहा है। पुलिस ने घरवालों से जब सवाल किया कि न किचन में बर्तन गिरा, न धुंआ उठा...यह कैसी आग थी, जिसने सिर्फ खुशबू को जलाया? पुलिस के सवाल पर परिजनों की जुबान लड़खड़ाती दिखी।

- फिलहाल तो पुलिस ने मृतका की मां के बयान पर केस दर्ज कर लिया है, लेकिन हर एंगल पर जांच हैं। पुलिस ने जल्द ही पूरे मामले के खुलासे की बात कही है।

Click to listen..