--Advertisement--

बेटी की शादी न होने और सैलरी न मिलने से परेशान पिता ने जहर खाकर दी जान

एक अन्य मामले में रांची के ही सुखदेव नगर थाना क्षेत्र स्थित श्रीनगर में एक महिला ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली।

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 01:55 AM IST

रांची. बरियातू थाना एरिया के बरियातू डॉक्टर्स कॉलोनी में रहने वाले 58 साल के रामाकांत गिरि ने जहर खा कर आत्महत्या कर ली। रामाकांत बरियातू डॉक्टर्स कॉलोनी में सरकारी स्कूल के पास रहते थे। उनकी बेटी की शादी नहीं हो रही थी और उन्हें तीन महीने से सैलरी भी नहीं मिली थी। इस वजह से वे काफी परेशान थे। बुधवार की सुबह रामाकांत ने चूहा मारने की दवा खा ली। परिवार वालों ने उन्हें आनन-फानन में रिम्स के इमरजेंसी में भर्ती कराया, लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

रामाकांत रिम्स में सिक्युरिटी गार्ड के सुपरवाइजर थे। पोस्टमार्टम के बाद शव को उनके परिजनों को सौंप दिया गया। रामाकांत सुबह अपने घर के कमरे में गिरे हुए थे। घरवालों की नजर उन पर पड़ी, तो पड़ोसियों की मदद से उन्हें तुरंत रिम्स पहुंचाया गया। इसके बाद उनके बेटे को भी पड़ोसियों ने सूचना दी कि उनके पिता की तबियत खराब है और वे रिम्स में भर्ती हैं।

सुखदेवनगर में महिला ने की खुदकुशी, मुहल्ले वालों ने कहा- एक युवक कर रहा था ब्लैकमेल

एक अन्य मामले में रांची के ही सुखदेव नगर थाना क्षेत्र स्थित श्रीनगर में एक महिला ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। मृत महिला का नाम चंचला देवी (38) है। उसके पति का नाम बिनोद प्रसाद है, जो पेशे से ऑटो ड्राइवर है। महिला चार बच्चों की मां है। घटना की सूचना पाकर सुखदेवनगर पुलिस उसके घर पहुंची। जांच के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए रिम्स भेजा। घटना के वक्त चंचला देवी का पति बिनोद प्रसाद घर में नहीं था। जब उसे सूचना मिली, वह भागे-भागे घर आया, फिर कमरे का दरवाजा तोड़ा गया, तो वह फंदे से लटकती मिली। इधर, घटना के बाद जांच करने पहुंची पुलिस को उसका मोबाइल मिला। उसके मोबाइल पर लगातार एक नंबर से फोन आ रहा था। जब वह फंदे पर लटकी हुई थी, उस समय से ही फोन एक ही नंबर से लगातार आ रहा था।

छात्रा ने 14 पैरासिटामोल की गोलियां खाई, रिम्स में भर्ती

तीसरे मामले में रांची के एसपी सिंह इंस्टीट्यूट ऑफ नर्सिंग एंड पारा मेडिकल की एक स्टूडेंट अनामिका कुमारी ने बुधवार को खुदकुशी की कोशिश की। छात्रा ने 14 पैरासिटामोल के टैबलेट एक साथ खा लिए। इसके बाद उसे तुरंत रिम्स में भर्ती कराया गया। छात्रा ने आरोप लगाया है कि उसे कुछ दिनों से मैनेजमेंट द्वारा परेशान किया जा रहा था, जिसकी वजह से वह काफी परेशान थी। छात्रा का इलाज डॉ. विद्यापति की यूनिट में चल रहा है। बुधवार को ही उसे रिम्स में भर्ती कराया गया। संस्थान के संचालक डॉ. ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि मैनेजमेंट की ओर से कोई प्रताड़ना नहीं दी गई है।