--Advertisement--

सरकार वन टू वन सुरक्षा नहीं दे सकती, अब कॉलेजों में मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग : राज्यपाल

महिलाएं समाज की रीढ़ हैं, उन्हें पिछड़ा न समझा जाए। बेटियां भगवान का वरदान है।

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 03:39 AM IST

जमशेदपुर. राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा है कि राज्य के सभी महिला कॉलेजों में मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण कार्यक्रम अनिवार्य रूप से चलाया जाएगा। इसके लिए निर्देश जारी कर दिया गया है। ट्रेनिंग लेकर महिलाएं अपनी सुरक्षा खुद कर सकती हैं। इससे उनका कांफिडेंस भी बढ़ेगा और उनपर हो रहे जुल्मों का जवाब भी दे सकेंगी। सरकार वन टू वन सुरक्षा नहीं दे सकती है। इसके लिए महिलाओं को अपनी सुरक्षा के प्रति सजग रहना चाहिए। वे मदरसा बाग - ए - आयशा की ओर से बिष्टुपुर स्थित माइकल जॉन आडिटोरियम में आयोजित सालाना जलसा सह दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रही थीं।


उन्होंने कहा कि बेटियां बेटों से कम नहीं हैं। वे सहनशील, धैर्य, स्नेह की मूरत होती हैं। उन्हें सशक्त बनाने में सभी को योगदान करने की जरूरत है। समाज में रीति रिवाज और अनुशासन जरूरी है, लेकिन इसकी आड़ में हुनर और विकास को कुंठित नहीं होने देना चाहिए। बेटियों को शिक्षित करने पर जोर दिया जाना चाहिए। महिलाएं समाज की रीढ़ हैं, उन्हें पिछड़ा न समझा जाए। बेटियां भगवान का वरदान है। उनके प्रयास से समाज और देश विकसित हो सकता है। उन्होंने बेटियों के शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि पढ़ाई में गरीबी आड़े नहीं आनी चाहिए।